साल का पहला चंद्रग्रहण आज, जानें क्‍या करें और क्‍या नहीं?

10 जनवरी, 2020 यानि आज जो चंद्र ग्रहण लगेगा, वह पूर्ण चंद्र ग्रहण होने के बजाए उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा.

आज यानि शुक्रवार को साल 2020 का पहला चंद्र गहण (Lunar Eclipse 2020) लग रहा है. यह चंद्र ग्रहण भारत के अलावा एशिया, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में भी देखा जाएगा.

10 जनवरी, 2020 यानि आज जो चंद्र ग्रहण लगेगा, वह पूर्ण चंद्र ग्रहण होने के बजाए उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा. सूरज और चांद के बीच पृथ्वी घूमते हुए आती है, पर ये तीनों एक लाइन में नहीं होते, तब उपच्छाया चंद्र ग्रहण होता है.

भारतीय समय के मुताबिक, 10 जनवरी को रात 10:37 मिनट पर चंद्र ग्रहण लगेगा, जो कि 11 जनवरी को 2:42 पर खत्म होगा. यानि ग्रहण कुल 4 घंटे 1 मिनट तक रहेगा.

तिथि और समय

उपच्छाया का पहला स्पर्श- 10 जनवरी, 10:39 PM
परमग्रास- 11 जनवरी, 12:39 AM
उपच्छाया अंतिम स्पर्श- 02:40 AM
उपच्छाया का समय- 4 घंटे 01 मिनट 47 सेकेंड
उपच्छाया परिमाण- 0.89

सूतक काल

जब भी सूर्य या फिर चंद्र ग्रहण लगता है तो उससे पहले सूतक लग जाता है मगर उपच्छाया होने के कारण इस चंद्र ग्रहण से सूतक नहीं लगेग. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सूतक के समय को अशुभ मूहुर्त माना जाता है.

सूतक ग्रहण समाप्ति के बाद धर्मस्थलों को पवित्र किया जाता है. चंद्रग्रहण के सूतक काल में मंदिर के पट बंद हो जाते हैं. इस समय पूजा पाठ करना भी अशुभ माना जाता है.

क्या करें?

ऐसा कहा जाता है कि चंद्र ग्रहण के मौके पर दाल, चावल, गेहूं और गुड़ जैसी चीजों का दान करना चाहिए. इन चीजों का दान करने से लोग ग्रहण के असर से दूर रहते हैं.

क्या न करें?

ग्रहण काल को बहुत ही अशुभ माना जाता है, इसलिए इस समय में कोई भी शुभ कार्य करना अशुभ माना जाता है. ज्योतिषों का कहना है कि इस चंद्र ग्रहण पर लोगों को विशेष ध्यान रखने की जरुरत है. मरीज, बच्चे, बुजुर्ग और प्रेग्नेंट महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए. भोजन भी चंद्र ग्रहण से कुछ घंटे पहले और बात में न खाएं.

 

ये भी पढ़ें-   कौन हैं ये ‘नज़मा अप्पी,’ जिनकी शिकायतों पर हंसकर लहालोट हो जाते हैं लोग

तीन ISIS आतंकियों की तलाश में सुरक्षा एजेंसी, 26 जनवरी से पहले बड़ी घटना को दे सकते हैं अंजाम

Related Posts