अमित शाह ने बिहार में अटकलों का किया अंत, कहा- नीतीश ही होंगे सीएम

वैशाली में नागरिकता कानून के समर्थकों की रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने विपक्षी दलों पर जनता को बहकाने का आरोप लगाया.

अमित शाह ने गुरुवार को बिहार के वैशाली में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया. इस दौरान केंद्रीय गृह मंत्री ने नागरिकता संशोधन कानून को बिहार की जनता का अपार समर्थन मिलने पर उन्हें धन्यवाद दिया. इस रैली में उन्होंने उन तमाम अटकलों को भी खारिज कर दिया जिनके तहत बताया जा रहा था कि बिहार एनडीए में खटपट चल रही है. अमित शाह ने इन अटकलों का खंडन करते हुए कहा कि बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा जाएगा.

उन्होंने साफ तौर पर कहा कि हमारे गठबंधन (जनता दल यूनाइटेड के साथ) के बारे में फैलाए जा रहे झूठ का भी मैं खंडन करता हूं. इसके साथ अमित शाह ने कहा, ‘नीतीश कुमार के ही नेतृत्व में चुनाव लड़ा जाएगा.’

बिहार में एनडीए की मुख्य विरोधी राष्ट्रीय जनता दल पर भी अमित शाह ने हमला बोला. उन्होंने कहा, लालू प्रसाद (आरजेडी प्रमुख) जो कि भ्रष्टाचार के केस में जेल में हैं, वह सपने देखते रहें कि हमारा गठबंधन टूट जाएगा. लेकिन वह ये याद रखें कि एनडीए बिहार को उनके लालटेन के दौर से निकाल कर LED के दौर में लाया है.   अमित शाह ने आगे कहा कि कि यह देश और बिहार नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के नेतृत्व में आगे बढ़ेगा.

नागरिकता कानून को लेकर विपक्ष पर किया हमला

वैशाली में नागरिकता कानून के समर्थकों की रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने विपक्षी दलों पर जनता को बहकाने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि विपक्षी दल इस कानून पर अल्पसंख्यकों को गुमराह कर रहे हैं और जिसके चलते देश में कई जगह हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं. केंद्रीय मंत्री ने एक बार फिर रैली में दोहराया कि यह कानून किसी की भी नागरिकता लेने का नहीं बल्कि नागरिकता देने का कानून है.

उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी देशभर में रैली करते हुए नागरिकता कानून के बारे में विपक्षी दलों द्वारा फैलाई झूठी खबरों का खंडन कर रहे हैं. केंद्रीय गृह मंत्री ने वैशाली की इस रैली में नागरिकता कानून के अलावा आर्टिकल 370 और अयोध्या मामले का भी जिक्र किया.

ये भी पढ़ें: इंदिरा गांधी-करीम लाला मुलाकात का दावा कर घिरे संजय राउत, फडनवीस ने कांग्रेस से पूछे सवाल