‘ज्यादा मत बोलो, मेरे ऊपर बोलने का अधिकार तुम्हारे पिताजी को है’, विधानसभा में तेजस्वी से बोले CM नीतीश

बिहार विधानसभा की कार्यवाही के दौरान सदन में NRC और NPR को लेकर जोरदार हंगामा हुआ. मामला इतना बढ़ गया कि RJD और BJP विधायकों में हाथापाई हो गई. सदन में NRC और NPR को लेकर बहस चल रही थी.
Bihar assembly Ruckus, ‘ज्यादा मत बोलो, मेरे ऊपर बोलने का अधिकार तुम्हारे पिताजी को है’, विधानसभा में तेजस्वी से बोले CM नीतीश

बिहार विधानसभा में मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार ने भाषण दिया. इस दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने उनके भाषण के बीच टोका-टाकी की. जिसके बाद नीतीश कुमार ने कहा, ‘ज्यादा मत बोलो, मेरे ऊपर बोलने का अधिकार तुम्हारे पिताजी को है.’

विधानसभा में हुआ हंगामा

सदन में NRC और NPR को लेकर जोरदार हंगामा हुआ. मामला इतना बढ़ गया कि RJD और BJP विधायकों में हाथापाई हो गई. विधानसभा में NRC और NPR को लेकर बहस चल रही थी. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इसे ‘काला कानून’ बताया जिसके बाद भाजपा के मंत्री नंदकिशोर यादव भड़क गए. इसके बाद RJD और BJP विधायकों में हाथापाई हो गई.

बिहार विधानसभा की कार्यवाही के दौरान NRC और NPR पर विपक्ष का कार्यस्थगन प्रस्ताव स्वीकृत हो गया. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कार्यस्थगन प्रस्ताव पेश किया. वित्तीय कार्य रोककर इस विषय पर तत्काल बहस शुरू हुई.

‘संविधान को बदनाम करने की कोशिश’

सत्ता पक्ष के विधायकों ने कहा कि विपक्ष देश के संविधान को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है, इसको बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है. इस मुद्दे पर सदन में जोरदार हंगामा देखने को मिला. पक्ष और विपक्ष के विधायक आमने-सामने आ गए. बढ़ते हंगामे को देखते हुए सदन की कार्यवाही 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई.

क्या बोले तेजस्वी?

सदन के बाहर तेजस्वी ने पत्रकारों से कहा कि उनके तथा अन्य सदस्यों के कार्यस्थगन प्रस्ताव स्वीकार किए जाने के बाद वे बोल रहे थे, तभी बीजेपी के विधायक हंगामा करने लगे.

तेजस्वी ने कहा, “सरकार ने एक ओर एनपीआर की अधिसूचना जारी कर दी है और दूसरी ओर मुख्यमंत्री कहते हैं कि एनपीआर 2010 के मुताबिक ही लागू होगा. उन्हें स्पष्ट करना चाहिए कि जो एनपीआर लागू होगा वह 2010 के नियम से ही लागू होगा.”

हर सवाल का जवाब देने को तैयार: मंत्री नंदकिशोर

मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा, “विपक्ष सिर्फ हंगामा करना जानता है, उसका जनता के मुद्दों से कोई लेना-देना नहीं है. सरकार सदन के अंदर विपक्षी पार्टियों के हर सवाल का जवाब देने के लिए तैयार है.”

विधानसभा में NPR और NRC पर दो घंटे की विशेष चर्चा

नीतीश कुमार ने कहा कि NRC की कोई आवश्यकता नही है. NPR के नए प्रावधान हटाया जाएं नहीं तो भविष्य में कभी NRC हुआ तो इससे लोगों को खतरा होगा. NPR पर केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को पत्र भेजा है, जिसके आधार पर अधिसूचना जारी की गई है. 2010 के इतर इस साल कुछ नया प्रावधान जोड़ा गया है. माता-पिता का जन्म स्थान के बारे में जानकारी मांगी गई है.

उन्होंने कहा कि 15 फरवरी को राज्य सरकार ने केंद्र सरकार को NPR के बारे में एक पत्र भेजा गया है. पत्र में बिहार सरकार ने NPR का आधार 2010 बनाने का आग्रह किया है. ट्रांसजेंडर वाले कॉलम को छोड़कर शेष नए प्रावधान को हटाने के आग्रह किया गया है.

नीतीश कुमार ने कहा कि NPR के नए प्रावधान से अगर कभी NRC हुआ तो लोगों को उससे खतरा होगा. राज्य सरकार द्वारा केंद्र सरकार को भेजे गए पत्र को विधानसभा की सर्वसम्मति का प्रस्ताव बनाकर पारित किया जाए.

NRC का सिर्फ हौवा खड़ा किया जा रहा है. मेरे अलावा पीएम भी स्पष्ट कर चुके हैं कि NRC की कोई चर्चा नहीं है. मैं भी मानता हूं कि NRC की कोई आवश्यकता नहीं है.

ये भी पढ़ें-

अवैध निकला सोलापुर से बीजेपी सांसद शिवाचार्य स्वामी का जाति प्रमाण पत्र, छिन सकती है सीट

पटना में पोस्टर वार का सिलसिला, करप्शन के मसले पर जेडीयू ने लालू परिवार को घेरा

Related Posts