IAS केके पाठक ने मुझे पीटा और पिस्टल तान दी, ठेकेदार का आरोप

सीनियर IAS केके पाठक लघु जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव हैं.

पटना: बिहार कैडर के सीनियर IAS अधिकारी केके पाठक की गिनती सूबे के कड़क IAS अधिकारी के रूप में होती है. पाठक फिलहाल बिहार सरकार लघु सिंचाई विभाग में प्रधान सचिव के तौर पर काम कर रहे हैं. लेकिन अपनी छवि के अनुरूप एक बार फिर विवादों में घिर गए हैं.

बिहार सरकार के प्रधान सचिव (लघु सिंचाई विभाग) सीनियर IAS के के पाठक पर एक ठेकेदार ने अपने साथ गाली-गलौज, मारपीट और रिवॉल्वर कनपटी पर सटाकर धमकाने का गंभीर आरोप लगाया है.

पाठक फिलहाल लघु जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव हैं. इनके विभाग में ठेकेदारी करने वाली कंपनी शकुंतला इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर कुमुद राज सिंह आज सचिवालय थाने में FIR कराने के लिए आवेदन लेकर पहुंचे हैं.

कुमुद राज सिंह के आवेदन के मुताबिक विभाग के कार्यपालक अभियंता ने उन्हें फोन कर प्रधान सचिव के चैंबर में आने को कहा. इसके बाद वे अपनी कंपनी के दूसरे सहयोगियों के साथ प्रधान सचिव के के पाठक के कक्ष में पहुंचे.

ठेकेदार के मुताबिक केके पाठक ने उनसे पूछा कि नालंदा के रहुई में उनके द्वारा किया गया काम क्यों क्षतिग्रस्त हो गया है. ठेकेदार ने कहा कि भारी बारिश के कारण कुछ क्षति पहुंची है, जिसे वे ठीक करा देंगे.

ठेकेदार के मुताबिक इतना सुनते ही के के पाठक आग बबूला हो उठे और गालियां देनी शुरू कर दी. प्रधान सचिव पाठक ने अपने बॉडीगार्ड का डंडा ले कर कुमुद राज सिंह की जमकर पिटाई की. फिर बॉडीगार्ड का ही रिवॉल्वर लेकर ठेकेदार के कनपटी पर सटा दिया.

ठेकेदार के मुताबिक केके पाठक ने गोली मारने की धमकी दी. इसके बाद ठेकेदार जान बचा कर किसी तरह वहां से भागे. ठेकेदार कुमुद राज सिंह ने कहा है कि सचिवालय में लगे CCTV कैमरे में सारा वाकया कैद है, जिससे इस प्रकरण की छानबीन की जा सकती है.

वहीं सचिवालय डीएसपी राकेश कुमार प्रभाकर ने पूरे मामले पर पल्ला झाड़ते हुए कहाँ की कोई जानकारी नही है, मैं सारे वीआईपी प्रोग्राम में था एसएसपी मैडम से ले लीजिए .
बहरहाल सचिवालय का सीसीटीव खंगालने के बाद ही साफ हो पाएगा की यह एक आरोप है या इनमें कितनी सच्चाई है.