बिहार: पलायन पर बोले डिप्टी CM सुशील मोदी- ज्यादा आय के लिए देश-प्रदेश से बाहर जाना पलायन नहीं

अप्रवासी बिहारी सम्मेलन को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा, "दो जून की रोटी के लिए नहीं, मगर ज्यादा पैसे कमाने के लिए प्रदेश और देश से बाहर जाना पलायन नहीं और न ही इसमें कोई बुराई है."
Bihar Deputy CM Sushil Modi on migration, बिहार: पलायन पर बोले डिप्टी CM सुशील मोदी- ज्यादा आय के लिए देश-प्रदेश से बाहर जाना पलायन नहीं

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने शनिवार को कहा कि दो जून की रोटी के लिए नहीं, लेकिन ज्यादा पैसे कमाने या ज्यादा आय के लिए किसी का भी प्रदेश और देश से बाहर जाना पलायन नहीं है और न ही इसमें कोई बुराई है.

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के एनआरआई मंच की ओर से पटना में आयोजित प्रथम ‘अप्रवासी बिहारी सम्मेलन’ को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा, “दो जून की रोटी के लिए नहीं, मगर ज्यादा पैसे कमाने के लिए प्रदेश और देश से बाहर जाना पलायन नहीं और न ही इसमें कोई बुराई है.”

‘2018-19 में बिहार से 3 लाख पासपोर्ट जारी हुए’

सुशील कुमार मोदी ने कहा, “2018-19 में बिहार से 3 लाख पासपोर्ट जारी हुए. इसमें सबसे ज्यादा सीवान से 41,700 (13 प्रतिशत), गोपालगंज से 34,200 (11 प्रतिशत) और औरंगाबाद से 25,400 (8 प्रतिशत) थे.” मोदी ने कहा, “बड़ी संख्या में पंजाब, गुजरात सहित विकसित राज्यों से भी लोग बेहतर कमाई के लिए इंग्लैंड, अमेरिका, कनाडा या अन्य देशों में जाते हैं.”

आरबीआई सर्वे के हवाले से मोदी ने बताया, “2018 में अप्रवासी भारतीयों द्वारा 78.6 अरब डॉलर देश में विदेशों से आया. 2016-17 में केरल की अर्थव्यवस्था में 19 प्रतिशत और महाराष्ट्र में 17 और बिहार में 1.3 प्रतिशत रकम अप्रवासियों ने भेजी थी.”

‘विकास दर में प्रथम तीन राज्यों में आया बिहार’

बिहार के उपमुख्यमंत्री ने कहा कि 1961 में मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण बाबू के निधन के बाद 40 सालों तक बिहार का विकास बाधित रहा. राजद के 15 सालों के कार्यकाल में बिहार की औसत विकास दर 5 प्रतिशत के करीब थी. वहीं राजग सरकार के 15 सालों में यह 10 प्रतिशत से ज्यादा है. पिछले 3 सालों में विकास दर में बिहार का स्थान देश के प्रथम तीन राज्यों में है. उन्होंने कहा, “आज पहचान छुपाने में नहीं, बल्कि बिहारी कहने में हमें गर्व महसूस होता है.”

देश-दुनिया से आए अप्रवासी लोगों से बिहारी राज्य के विकास में अपना योगदान देने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि अपने-अपने गांव में अपने पुरखों के नाम पर स्कूल, अस्पताल के लिए जमीन दान दें. बिहार सरकार की तरफ से गठित ‘बिहार फाउंडेशन’ दुनिया के अधिकांश देशों में कार्यरत है, उससे जुड़ें व वेबसाइट पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराएं.

–IANS

ये भी पढ़ें:

बिहार विधानसभा में लगातार दूसरा बड़ा फैसला, जाति आधारित जनगणना कराने का प्रस्ताव पास

Related Posts