मैट्रिक-इंटरमीडिएट के सवा दो लाख छात्र ग्रेस से होंगे पास, कोरोना के चलते बिहार सरकार ने लिया निर्णय

बिहार में वो परीक्षार्थी ग्रेस अंक के साथ कर दिए गए हैं जो एक या दो विषयों में फेल थे. इन स्टूडेंट्स के कंपार्टमेंटल सप्लीमेंट्री एग्जाम होने वाले थे लेकिन कोरोना के चलते परीक्षाओं को टाल दिया गया है.
matric and intermediate, मैट्रिक-इंटरमीडिएट के सवा दो लाख छात्र ग्रेस से होंगे पास, कोरोना के चलते बिहार सरकार ने लिया निर्णय

बिहार में कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के बीच मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों को सरकार ने बड़ी राहत दी है. Bihar School Examination Board (BSEB) ने मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में एक या दो विषयों में फेल हुए 2 लाख 14 हजार से ज्यादा छात्रों को पास घोषित कर दिया है. दरअसल सरकार कोरोना के कारण कम्पार्टमेंटल परीक्षा नहीं ले पा रही है, लिहाजा ये फैसला लिया गया है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

इसमें वो परीक्षार्थी ग्रेस अंक के साथ कर दिए गए हैं जो एक या दो विषयों में फेल थे. इन स्टूडेंट्स के कंपार्टमेंटल एग्जाम होने वाले थे लेकिन कोरोना के चलते परीक्षाओं को टाल दिया गया है, ताकि स्टूडेंट्स का साल खराब न हो.

बिहार बोर्ड के मुताबिक दसवीं की परीक्षा में कुल 81 फीसदी छात्र पास हुए हैं. करीब 15 लाख छात्रों ने बिहार बोर्ड की परीक्षा दी थी. ये परीक्षाएं 17 फरवरी से 24 फरवरी तक चली थीं. इंटर में 72,610 और मैट्रिक में 14,1677 बच्चों को पास किया गया है. मैट्रिक में रोहतास के हिमांशु राज ने 96.20 फीसदी मार्क्स के साथ टॉप किया था.

12वीं के नतीजों की बात करें तो 80.44 प्रतिशत बच्चों ने बिहार बोर्ड में सफलता हासिल की थी. पिछले साल के मुकाबले इस साल का रिजल्ट 0.68 प्रतिशत अधिक रहा. इसके साथ ही इंटर परीक्षाओं में एक बार फिर से लड़कियों ने बाजी मारी थी.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts