बिहार की पांच विधानसभा सीटों पर होगा उपचुनाव, महागठबंधन-NDA में शुरू हुआ घमासान

जीतनराम मांझी ने अकेले विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. कांग्रेस भी तेजस्वी यादव के नेतृत्व पर सवाल खड़ा कर रही है.

बिहार में पांच विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं. पांच विधायकों के सांसद बन जाने से ये सीटें खाली हुई हैं. 2020 चुनाव के ठीक पहले यह उपचुनाव बिहार की सत्ता का सेमीफाइनल माना जा रहा है. हालांकि इन पांच सीटों के लिए ही महागठबंधन और NDA, दोनों के अंदर घमासान मचा हुआ है.

बिहार के पांच विधायक अब सांसद बन गए हैं. इनमें चार जदयू के विधायक थे जबकि एक कांग्रेस का.
किशनगंज- मो जावेद, (कांग्रेस)
नाथनगर- अजय मंडल, (जदयू)
बेलहर- गिरिधारी यादव, (जदयू)
सिमरी बख्तियारपुर- दिनेश यादव, (जदयू)
दरौंदा- कविता देवी, (जदयू)

लोकसभा उपचुनाव के लिए भी मतदान 
इसके अलावा समस्तीपुर के सांसद रामचंद्र पासवान के निधन से यहां लोकसभा का उपचुनाव भी होना है. पांच विधानसभा की सीटों को लेकर महागठबंधन में महाभारत है. कांग्रेस ने पहले ही तीन विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर दावा ठोक दिया है जो न तो राजद को स्वीकार है और न ही अन्य सहयोगियों को.

वैसे भी महागठबंधन टुकड़े-टुकड़े होने की कगार पर खड़ा है. मांझी ने अकेले विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. कांग्रेस भी तेजस्वी के नेतृत्व पर सवाल खड़ा कर रहा है. ऐसे में इन पांच सीटों के बंटवारे ने महागठबंधन में और गांठे बढ़ा दी हैं.

NDA में भी हैं कई विवाद
इधर NDA में भी विवाद कम नही है. जदयू किसी भी हाल में अपनी चारों सीटिंग सीटें छोड़ने को तैयार नहीं है. जबकि भाजपा लोकसभा की तर्ज पर यहां भी बराबर-बराबर यानी 3-2 पर चुनाव लड़ना चाहती है. जदयू किशनगंज सीट भाजपा के लिए छोड़ना चाहती है जिसे 2019 के मोदी सुनामी में भी NDA इसी एकमात्र सीट को नहीं जीत पाई.

इन पांच विधानसभा सीटों के साथ ही स्व. रामचंद्र पासवान की समस्तीपुर सीट पर भी उपचुनाव होना है जिसे लेकर दोनों तरफ कोई विवाद नहीं है.NDA की तरफ से लोजपा जबकि पिछले चुनाव में भी यह सीट कांग्रेस के खाते में गई थी जहां से अशोक राम चुनाव लड़े थे. लिहाजा यहां कांग्रेस का दावा सबसे मजबूत है.

ये भी पढ़ें-

महाराष्‍ट्र और हरियाणा में 21 अक्‍टूबर को डाले जाएंगे वोट, 24 को आएंगे नतीजे

हरियाणा: पांच साल पहले क्‍या थी राजनीतिक पार्टियों की हैसियत, 10 प्‍वॉइंट्स में

महाराष्‍ट्र: 2014 में किसके खाते में थीं कितनी सीटें और क्‍या थे इक्‍वेशन, 10 प्‍वॉइंट्स में