कल बिहार में होने वाला उपचुनाव, महज चुनाव नहीं सेमीफाइनल है नीतीश और तेजस्वी के बीच

बिहार में सोमवार यानी 21 अक्टूबर को पांच विधानसभा दरौंदा, सिमरी बख्तियारपुर, बेलहर, नाथनगर और किशनगंज जबकि एक लोकसभा सीट समस्तीपुर के लिए उपचुनाव होने जा रहा है.

बिहार में सोमवार यानी 21 अक्टूबर को पांच विधानसभा दरौंदा, सिमरी बख्तियारपुर, बेलहर, नाथनगर और किशनगंज जबकि एक लोकसभा सीट समस्तीपुर के लिए उपचुनाव होने जा रहा है. यह पांचो विधानसभा सीट विधायकों के सांसद बन जाने की वजह से खाली हुई हैं. जबकि समस्तीपुर लोकसभा क्षेत्र से निर्वाचित सांसद रामचंद्र पासवान की मृत्यु हो जाने की वजह से यहां उपचुनाव हो रहा है.

ये सिर्फ उपचुनाव नहीं, सेमीफाइनल भी है अगले साल होने वाले चुनाव का

यूं तो उपचुनाव में जब तक किसी दल के गणित को बिगाड़ने की स्थिति न हो तब तक वह चर्चा में नहीं आता. वहीं हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा जैसे महामुकाबलों की चर्चा के बीच बिहार उपचुनाव का सुर्खियों में आना, कोई हैरान करने वाली बात नहीं है. हैरान करने वाली बात इसलिए भी नहीं है क्योंकि इसे अगले साल बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच सेमीफाइनल मुकाबले के तौर पर देखा जा रहा है.

ये सेमीफाइनल ही तमाम दलों को आगे होने वाले चुनावों की रणनीति तैयार करने के लिए शुरुआती रसद उपलब्ध कराएंगे. जिन सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं, उन सभी सीटों पर महागठबंधन और बीजेपी नीत NDA के बीच सीधा मुकाबला है. पांच विधानसभा सीटों में से NDA खेमे में 4 सीटों पर जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं, जबकि एक सीट किशनगंज पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने स्वीटी सिंह के रूप अपना उम्मीदवार उतारा है.

चुनाव से पहले ही महागठबंधन में पड़ रही है दरार!

दूसरी तरफ महागठबंधन में भी RJD ने 4 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, जबकि अपने सहयोगी कांग्रेस के लिए एक किशनगंज की सीट छोड़ी है. वहीं लोकसभा सीट समस्तीपुर पर भी कांग्रेस चुनाव लड़ रही है. यहां पर कांग्रेस ने अशोक राम को मैदान में उतारा है, जबकि LJP ने स्व.रामचंद्र पासवान के बेटे प्रिंस पासवान को मैदान में उतारा है.

इस उपचुनाव के लिए महागठबंधन में शुरू से मतभेद देखा गया. HAM के जीतन राम मांझी और VIP के मुकेश साहनी ने सीट बंटवारे में उपेक्षा का आरोप लगाते हुए बेलहर और नाथनगर से अपने अपने उम्मीदवार खड़े कर दिए. जिससे महागठबंधन में इन दोनों सीटों पर फ्रेंडली फाइट भी हो रही है.
इस उपचुनाव में कुल 32.27 लाख वोटर 51 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे. इसके लिए कुल 3,258 बूथ बनाए गए हैं.

ये भी पढ़ें: भारत ने उड़ाया तोपखाना, मारे आतंकी.. तो पाकिस्तान ने यूं बांधा झूठ का पुलिंदा