मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हथिया नक्षत्र को ठहराया बिहार में बाढ़ का जिम्मेदार

नीतीश कुमार ने हथिया नक्षत्र को भी पटना के जल जमाव के लिए जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने इस भीषण आपदा के लिए प्रकृति को ही एक बार फिर जिम्मेदार बताया.

बिहार भीषण बाढ़ का सामना कर रहा है. इस प्राकृतिक आपदा के चलते कई लोगों की जान चली गई है. राजधानी पटना की ही सड़कें पानी से भरी पड़ी हैं.  पटना के जलजमाव को प्राकृतिक आपदा और पर्यावरण असंतुलन का परिणाम बताने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब तक या तो बंद कमरे में हाई लेवल मीटिंग करते रहे या फिर हवाई सर्वेक्षण. लेकिन आखिरकार आज चार दिनों बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रात के अंधेरे में पटना के कुछ इलाकों के जलजमाव का जायजा लेने पहुंचे.

कई जगहों पर जहां राहत सामग्री तैयार की जा रही थी, उन्होंने वहीं जाना उचित समझा, लेकिन उन इलाकों में अभी भी मुख्यमंत्री ने जाना उचित नहीं समझा जहां कमर तक सीने तक और कहीं-कहीं तो नाक तक पानी भरा हुआ है. मुख्यमंत्री ज्यादातर वहीं गए जहां राहत सामग्री तैयार की जा रही है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को एक निजी कार्यक्रम में सम्मिलित होने के बाद मीडिया से बात करते हुए बिहार की बाढ़ से लेकर सुखार तक की चर्चा की.

इस दौरान नीतीश कुमार ने हथिया नक्षत्र को भी पटना के जल जमाव के लिए जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने इस भीषण आपदा के लिए प्रकृति को ही एक बार फिर जिम्मेदार ठहराया. कई बार पत्रकारों के सवालों से वह विचलित भी हुए, पत्रकारों के ज्ञान पर और उनकी मंशा पर सवाल भी खड़े किए. मुंबई से लेकर सूरत और अमेरिका के जल जमाव की भी चर्चा की और मीडिया को ही जन जागृति के लिए काम करने की नसीहत दे डाली.

ये भी पढ़ें: महात्मा गांधी 150वीं जयंती: गुजरात में रहेंगे पीएम मोदी, जानिए पूरे दिन का कार्यक्रम