छपरा: SIT पर फायरिंग मामले में जिला परिषद अध्यक्ष समेत सात लोगों पर FIR दर्ज

बिहार पुलिस के डीजीपी शहीद पुलिसवालों को खुद श्रद्धांजलि देने पहुंचे हैं, लेकिन अब तक...
bihar police, छपरा: SIT पर फायरिंग मामले में जिला परिषद अध्यक्ष समेत सात लोगों पर FIR दर्ज

बिहार के छपरा के मढ़ौरा में पुलिस पर हुए हमले के दौरान शहीद हुए दरोगा मिथलेश और कांस्टेबल फारुख के मामले में जिला परिषद अध्यक्ष मीना अरुण समेत सात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गई है. इन सभी पर हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है. पुलिस इनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है.

बिहार में बहार वाली सरकार में अपराधियों का मनोबल इतना ऊंचा है कि खाकी वर्दी खुद खून से लथपथ है. छपरा के मढ़ौरा में अपराधियों ने SIT टीम पर अंधाधुंध गोलियां बरसाई दीं, जिसमें आरा के रहने वाले सब इंस्पेक्टर मिथिलेश कुमार शाह और सहरसा के सिपाही फारूक शहीद हो गए. वहीं, पुलिस के एक और जवान रजनीश कुमार को गोली लगी है.

पुलिस की पिस्तौल-राइफल भी ले गए साथ
अपराधी पुलिस की पिस्तौल, राइफल तक अपने साथ लेते गए. इस हत्याकांड में पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं. छपरा के पुलिस अधीक्षक मीडिया के कैमरों से मुंह छुपाते हुए फिर रहे हैं. बिहार पुलिस के डीजीपी शहीद पुलिसवालों को खुद श्रद्धांजलि देने पहुंचे हैं, लेकिन अब तक अपराधियों की धरपकड़ तो दूर अपराधी गिरोह की पहचान तक नहीं हो पाई है.

हालांकि, पुलिस की जांच तीन बिंदुओं पर चल रही है. दारोगा मिथिलेश कुमार साह ईमानदारी और बहादुरी की मिसाल थे. उन्होंने जनता बाजार, बनियापुर और तरैया जैसे इलाकों में शराब माफियाओं की कमर तोड़ दी थी. वहीं, डकैती से परेशान आम लोगों को नट गिरोह के कई डकैतों को गिरफ्तार कर राहत दी थी.

इन बिंदुओं पर चल रही जांच
इसके अलावा छपरा के जिला परिषद की अध्यक्ष और उनके एक रिश्तेदार की हत्या के इनपुट पुलिस को मिले थे. इसी इनपुट पर एसआईटी की टीम को लगाया गया था. पुलिस फिलहाल इन तीनों बिंदुओं पर आगे बढ़ रही है.

सरकार का इकबाल तब बुलंद होता है जब वर्दी की हनक अपराधियों के बीच होती है. लेकिन क्या वर्दी की हनक और सरकार का इकबाल, दोनों अपराधियों की नजर में समाप्त हो चुका है.

ये भी पढ़ें-

चिदंबरम के बेटे पर घोटाले के पैसे से स्‍पेन में टेनिस क्‍लब, ब्रिटेन में कॉटेज खरीदने का आरोप

LIVE: चिदंबरम के बचाव में उतरे राहुल गांधी, बोले- सत्ता का दुरुपयोग कर रही मोदी सरकार

पी चिदंबरम को बचाने के लिए एकजुट हुई कांग्रेस, अभिषेक मनु सिंघवी सुप्रीम कोर्ट में देंगे यह तर्क

Related Posts