बुरे से बुरे दौर में अरुण जेटली ने दिया था नीतीश कुमार का साथ, उनकी याद में अब बनवा रहे हैं स्टैचू

इसी के साथ उन्होंने ये भी ऐलान किया कि जेटली के जन्म दिवस को हर साल राज्य में जश्न के तौर पर मनाया जाएगा.

बिहार के मुख्यमंत्री और JDU नेता नीतीश कुमार ने शनिवार को ऐलान किया कि राज्य विधानसभा में पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और दिवंगत बीजेपी नेता अरुण जेटली का स्टैचू लगाया जाएगा. इसी के साथ उन्होंने ये भी ऐलान किया कि जेटली के जन्म दिवस को हर साल राज्य में जश्न के तौर पर मनाया जाएगा. मालूम हो कि पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 24 अगस्त को निधन हो गया था.

राजनीतिक गलियारों में ये बात सर्वविदित है कि अरुण जेटली बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच ब्रिज का काम करते थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में जब नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी का नाम सामने आने पर NDA से गठबंधन खत्म कर लिया था. तब भी उनके संबंध अरुण जेटली से खट्टे नहीं पड़े थे और दोनों के बीच परस्पर बातचीत भी थी.

अरुण जेटली और नीतीश कुमार की दोस्ती का प्रतीक होगा स्टौचू

साल 2017 में जेडीयू ने बिहार में अपनी सहयोगी RJD से गठबंधन खत्म कर दिया था और एक बार फिर NDA के सहयोग से राज्य में सरकार बनाई थी. बिहार की राजनीति पर पकड़ रखने वालों के मुताबिक NDA में नीतीश कुमार की पार्टी JDU को वापस जोड़ने में अरुण जेटली का मुख्य हाथ था.

अरुण जेटली और नीतीश कुमार की दोस्ती बुरे से बुरे दौर में भी बरकरार रही. ऐसे में राज्य विधानसभा में जेटली की मूर्ति लगवाने का उनका फैसला पूरी तरह से अपनी दोस्ती को समर्पित माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें: ‘असम में 40 लाख से ज्यादा अवैध पलायनकर्ता थे, अब 19 लाख कैसे रह गए’? ओवैसी का बीजेपी से सवाल