नीतीश कुमार को गिरिराज सिंह की चुनौती, कहा- स्थिति नहीं बदली तो अलग लड़ेंगे चुनाव

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही कहें कि बिहार में सब ठीक ही लेकिन बीजेपी में एक वर्ग है जिसके लिए नीतीश कुमार ठीक नहीं है.

बिहार में भारतीय जनता पार्टी (BJP) और जनता दल यूनाइटेड (JDU) के बीच सब कुछ ठीक ठीक नहीं है. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के ताज़ा बयान को सुनकर तो कुछ ऐसा ही लगता है. दरअसल गिरिराज सिंह ने नीतीश सरकार पर बाढ़ पीड़ितो लोगों के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाया है.

गिरिराज सिंह पिछले कुछ दिनों से अपने संसदीय क्षेत्र बेगूसराय के बाढ़ पीड़ित इलाक़ों का दौरा कर रहे हैं. मंगलवार को संसदीय क्षेत्र का दौरा करते हुए गिरिराज सिंह ने कहा कि अगर हालात ऐसे ही रहे तो बीजेपी आगामी विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने पर विचार कर सकती है.

गिरिराज सिंह ने राजनीति से संन्यास लेने को लेकर कहा कि ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी पाली उनके राजनीतिक जीवन की अंतिम पाली है. वे राजनीति में मंत्री-विधायक बनने नहीं, कुछ मकसद व सपनों के साथ आए थे. सपना था, जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह कश्मीर हमारा है.’

उन्होंने आगे कहा कि ‘जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाना मकसद था. मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के शुरुआत में ही धारा 370 और 35ए को हटाकर इस मकसद को पूरा कर दिया. उम्मीद है कि आने वाले वर्षों में राम मंदिर निर्माण, जनसंख्या नियंत्रण और यूनिफॉर्म सिविल कोड से संबंधित फैसले भी लिए जाएंगे.’

बता दें कि दो दिन पहले ही उन्‍होंने कहा था कि बेगूसराय के लोग सूखा और बाढ़ से परेशान हैं. ऐसे में आवाज नहीं उठाएं तो क्या आत्महत्या कर लें?

रविवार को गिरिराज सिंह ने संसदीय क्षेत्र का दौरा करते हुए कहा था कि बेगूसराय को सूखाग्रस्‍त क्षेत्र घोषित नहीं किया गया है. वहीं दूसरे आधे हिस्से में बाढ़ है. बाढ़ग्रस्‍त क्षेत्र में भी राहत व बचाव कार्य नाकाफी हैं.

गिरिराज सिंह के लगातार हमलावर अंदाज को देखते हुए जेडीयू ने अपने फायरब्रांड प्रवक्ता संजय सिंह को आगे कर दिया. संजय सिंह ने गिरिराज सिंह से सवाल पूछा- कब कर रहे हैं आत्महत्या? आत्महत्या की तारीख बताइए ?आत्महत्या का समय बताइए ?इसके साथ ही संजय सिंह ने यह भी कहा यह किसी नेता का बयान नहीं किसी कायर का बयान है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही कहें कि बिहार में सब ठीक ही लेकिन बीजेपी में एक वर्ग है जिसके लिए नीतीश कुमार ठीक नहीं है.

गिरिराज सिंह मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर पहले भी कड़े बयान देते रहे हैं. नीतीश कुमार द्वारा एनआरसी (NRC) का विरोध करने को लेकर भी गिरिराज सिंह ने कहा था कि कुछ नेता केवल प्रचार के लिए बयानबाजी करते रहते हैं.

इससे पहले बिहार के नवादा में 2017 की रामनवमी के दौरान दंगे भड़काने के मामले में पुलिस ने बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कुछ स्थानीय नेताओं-कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था. बाद में अदालत ने उन्हें जेल भेज दिया. जिसके बाद तत्कालीन केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह गिरफ्तार अभियुक्तों से मिलने पहुंच गए थे. मुलाकात के बाद उन्होंने अभियुक्तों की गिरफ्तारी को साजिश करार देते हुए कहा था कि ये लोग क्षेत्र में शांति-स्थापना के प्रयास में लगे थे.

जिसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कड़े शब्दों मे गिरिराज सिंह के बयान की निंदा करते हुए कहा था कि वह राज्य में ‘क्राइम, करप्शन और कम्युनलिज्म’ बर्दाश्त नहीं करेंगे.