मुजफ्फरपुर: SKMCH के पीछे मानव कंकाल मिलने की सुलझी गुत्थी

यह वही अस्पताल है जहां पर चमकी बुखार (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) के कारण अब तक 130 बच्चों की मौत हो चुकी है.

मुजफ्फरपुर मानव कंकाल, मुजफ्फरपुर: SKMCH के पीछे मानव कंकाल मिलने की सुलझी गुत्थी

पटना: मुजफ़्फ़रपुर के SKMCH (श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल) के पीछे कई मानव कंकाल मिले हैं. एएनआई के मुताबिक अस्पताल के पिछले हिस्से में बने जंगल में एक बोरे में नर कंकाल के अवशेष मिले हैं.

वहीं मुजफ्फरपुर के अहियापुर थाना के एसएचओ सोना प्रसाद सिंह ने कहा, ‘जांच में पता चला है कि यहां पर लावारिस शरीरों को जलाया गया है. यह कंकाल उन्हीं लावारिस लाशों का है.’

बता दें कि यह वही अस्पताल है जहां पर चमकी बुखार (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) के कारण अब तक 130 बच्चों की मौत हो चुकी है. इन्सेफलाइटिस के चलते हुई मौतों से अस्पताल प्रशासन पहले ही सवालों के घेरे में है, ऐसे में कंकाल मिलने से इलाक़े में हड़कंप मच गया है.

SKMCH अधीक्षक एसके शाही ने जांच से पहले कहा था, ‘पोस्टमॉर्टम विभाग प्राचार्य के अधीन है लेकिन इस कार्य को मानवीय दृष्टिकोण से किया जाना चाहिए था. मैं प्रधानाचार्य से बात करूंगा और उनसे इस संबंध में जांच के लिए एक समिति गठित करने की मांग करूंगा.’

फ़िलहाल जांच समिति की टीम ने मौक़े पर जाकर मुआयना किया है. SKMCH के डॉक्टर विपिन कुमार ने कहा, ‘यहां पर मानव कंकाल मिले हैं हमलोग उसी की जांच कर रहे हैं. जल्द ही प्रिंसपल द्वारा विस्तृत जानकारी साझा की जाएगी.’

वहीं आसपास के लोगों का आरोप है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के दौरे से एक दिन पहले यहां पर कई मृत शरीरों को जलाया गया था.

गौरतलब है कि 15 वर्ष तक की उम्र के बच्चे इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं. इस कारण मरने वालों में अधिकांश की आयु एक से सात वर्ष के बीच है. इस बीमारी का शिकार आमतौर पर गरीब परिवार के बच्चे होते हैं.

चिकित्सकों के मुताबिक, इस बीमारी का मुख्य लक्षण तेज बुखार, उल्टी-दस्त, बेहोशी और शरीर के अंगों में रह-रहकर कंपन (चमकी) होना है.

उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष इस मौसम में मुजफ्फरपुर क्षेत्र में इस बीमारी का कहर देखने को मिलता है. पिछले वर्ष गर्मी कम रहने के कारण इस बीमारी का प्रभाव कम देखा गया था.

इस बीमारी की जांच के लिए दिल्ली से आई नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल की टीम तथा पुणे के नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) की टीम भी मुजफ्फरपुर का दौरा कर चुकी है.

ये भी पढ़ें

मोदी सरकार ने 15 बड़े अधिकारियों को जबरन किया रिटायर, ये रही वजह

मेहुल चोकसी की सेहत खराब तो ED एंटीगुआ भेजेगा एयर एम्बुलेंस

VIDEO: सरकारी कर्मचारी के हाथों जूते पहने, फिर यूपी के मंत्री बोले- भरत ने तो खड़ाऊ रख किया था राज

Related Posts