बिहार विधानसभा चुनाव से पहले जीतनराम मांझी का दावा- महागठबंधन में लेंगे 85 सीटें

जीतनराम मांझी ने कहा कि महागठबंधन के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार समन्वय समिति की बैठक में तय होगी. पांच घटक दल आपस में बैठकर ही यह तय करेंगे कि आगे क्या करना है.

बिहार में विधानसभा चुनाव भले ही दूर है, लेकिन अभी से ही सभी दलों ने सीटों को लेकर दबाव बनाना शुरू कर दिया है. इसी कड़ी में हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने शुक्रवार को अपनी पार्टी के लिए 85 सीटों पर दावा ठोंक कर महागठबंधन में झंझट की संभावना बढ़ा दी है. मांझी की मौजूदगी में पार्टी के जिला अध्यक्ष, जिला प्रभारी और पदाधिकारियों की बैठक हुई.

बैठक में जिलों में पार्टी के काम और विस्तार की जानकारी दी गई. इसके बाद मांझी ने बताया कि बैठक में केंद्रीय कमेटी, जिला अध्यक्ष, जिला प्रभारी और पार्टी पदाधिकारियों की सदस्यता अभियान और बूथ कमेटी और पार्टी संगठन को लेकर बैठक हुई. उन्होंने कहा, “बैठक में यह बात सामने आई है कि 85 सीटों पर हमारी पार्टी मजबूती से चुनाव लड़ सकती है, जिसमें हम खुद जीत भी सकते हैं. अगर वहां कोई उम्मीदवार होंगे तो हम उन्हें जिताने की स्थिति में हैं.”

मांझी ने कहा कि महागठबंधन के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार समन्वय समिति की बैठक में तय होगी. महागठबंधन के पांच घटक दल आपस में बैठकर ही यह तय करेंगे कि आगे क्या करना है. किसी एक व्यक्ति या एक दल के निर्णय के सवाल पर उन्होंने कहा कि जब तक समिति की बैठक नहीं होती है, तब तक हम इस विषय पर कुछ नहीं कह सकते. उन्होंने कहा कि समन्वय समिति को लेकर 15 तारीख को मकर संक्रांति के दिन एक बैठक होगी. उसके बाद जो भी बातें होंगी सबके सामने रखी जाएगी.

बिहार में कुल 243 विधानसभा सीटें हैं. हम विपक्षी दल के महागठबंधन के साथ है. महागठबंधन में शामिल आरजेडी ने तेजस्वी यादव को इस साल होने वाले विधानसभा के लिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर रखा है. पार्टी के प्रधान महासचिव डॉ. संतोष कुमार सुमन, प्रवक्ता डॉ. दानिश रिजवान, बीएल वैश्यन्त्री, पूर्व मंत्री डॉ. अनिल कुमार सहित कई नेता मौजूद थे.

(आईएएनएस )

ये भी पढ़ें –

बिहार में पलटा टैम्पो तो गिरी शराब की बोतलें, देखते ही देखते मच गई लूट

बिहार के लोग बीजेपी का CM देखना चाहते हैं, नीतीश का चेहरा अब पुराना हो गया : संजय पासवान