पटना में डेंगू की चपेट में आए 2 विधायक, नीतीश सरकार ने 8 IAS अधिकारियों का किया तबादला

विधायक नितिन नवीन ने कहा कि 'बीमारी के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए प्रशासन को तत्काल कदम उठाने चाहिए.'

बिहार में डेंगू का कहर जारी है. राजधानी पटना में डेंगू से प्रभावित लोगों की संख्या अब 1300 से अधिक हो गई है. इस बीच पटना के बांकीपुर विधायक नितिन नवीन डेंगू के शिकार हो गए हैं. उन्हें काफी तेज बुखार के साथ सिर और शरीर में दर्द की शिकायत है. डॉक्टरों की सलाह पर उनका इलाज घर पर ही चल रहा है.

घर पर चल रहा इलाज
इससे पहले विधायक संजीव चौरसिया भी डेंगू की चपेट में आ गए थे. अब उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है. दीघा विधायक संजीव की हालत स्थित होने पर डॉक्टरों ने उन्हें घर पर ही इलाज की सलाह दी है. डॉ चौरसिया का प्लेटलेट्स फिलहाल 60 हजार के करीब है.

वहीं विधायक नितिन नवीन ने कहा कि ‘मैं सभी लोगों से कहना चाहूंगा कि वे सावधानियां बरतें. बीमारी के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए प्रशासन को तत्काल कदम उठाने चाहिए.’

बिहार सरकार ने की बड़ी कार्रवाई
दूसरी तरफ, बिहार सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए भारतीय प्रशासनिक सेवा के 8 अधिकारियों का तबादला कर दिया है. चैतन्य प्रसाद को नगर विकास विभाग से हटाकर विज्ञान एवं प्रावैधिकी प्रावैद्यिकी विभाग में भेजा गया है. हरजोत कौर को खान एवं भूतत्व विभाग का प्रधान सचिव बनाया गया है. प्रदीप कुमार झा को आईपीआरडी का निदेशक बन गया है.

वहीं, अमरेंद्र प्रसाद सिंह को बुडको से हटा दिया गया है. उन्हें बिहार राज्य पथ परिवहन निगम का प्रशासक बनाया गया है. चंद्रशेखर सिंह बुडको के एमडी बनाए गए हैं. संजय अग्रवाल को पटना आयुक्त का अतिरिक्त प्रभार मिला है. आनंद किशोर को नगर विकास और पटना मेट्रो का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है.

CM नीतीश ने की 4 घंटे बैठक
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को लगातार चार घंटे तक बैठक की. इस दौरान उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, नगर विकास मंत्री एवं कई अन्य विभागों के मंत्री सहित मुख्य सचिव, विकास आयुक्त और आला अधिकारी बैठक में मौजूद रहे.

मुख्य सचिव दीपक कुमार ने बताया था कि जलजमाव के लिए दोषी चिन्हित लोगों में बुडको के मुख्य अभियंता, दो अधीक्षण अभियंता, छह कार्यपालक अभियंता और एक मेकेनिकल कार्यपालक अभियंता, एक सहायक अभियंता मेकेनिकल को कारण बताओ नोटिस भेजा गया है. वहीं, एक सहायक अभियंता को प्रशासनिक आधार पर स्थानांतरित कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें-

सुप्रीम कोर्ट में Ayodhya Case की सुनवाई पूरी, जानें 40 दिनों की सुनवाई से जुड़ी हर अहम बात

वो भयावह मंजर, जब कारसेवकों पर चली थीं गोलियां

NaMo App की तर्ज पर अरविंद केजरीवाल लाए ‘AK’ एप, जानें क्‍या है खास