‘नीतीश कुमार ने मीठे जहर से किया कत्ल’, तेजस्वी यादव का बड़ा आरोप

विधानसभा में तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर शिक्षा व्यवस्था को खंडहर में तब्दील करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले 15 वर्षो में मीठा जहर देकर बिहार की शिक्षा व्यवस्था का निर्ममता से कत्ल किया गया है.

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने सोमवार को जेडीयू प्रमुख और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को मीठा जहर कहा. आरजेडी के सीनियर नेता तेजस्वी ने पहले सदन में और फिर ट्वीटर के जरिए नीतीश पर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था को बर्बाद करने का आरोप लगाते हुए लगातार निशाना साधा. इसके बाद बिहार में महागठबंधन को लेकर शुरू कयास पर फिर से गाज गिर गई है.

विधानसभा में तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर शिक्षा व्यवस्था को खंडहर में तब्दील करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले 15 वर्षों में मीठा जहर देकर बिहार की शिक्षा व्यवस्था का निर्ममता से कत्ल किया गया है. इसके पहले आरजेडी उपाध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश बाबू ने रविवार को नीतीश से साथ आने की लगभग अपील कर दी थी. उन्होंने महाराष्ट्र चुनाव परिणाम का हवाला देते हुए कहा था कि इसपर पार्टी में चर्चा करेंगे.

एक दिन के बाद ही तेजस्वी अपने ट्विटर हैंडिल से कई ट्वीट के जरिए फिर से नीतीश पर हमलावर हो गए. उन्होंने ट्वीट किया, “नीतीश जी ने स्कूलों और विश्वविद्यालयों से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा समाप्त कर, इन्हें खंडहर में तब्दील कर, दो पीढ़ियों का अपूरणीय नुकसान किया है. दो पीढ़ियों के भविष्य को बर्बाद कर उनके जीवन को अंधेरे कुएं में धकेलने वाले मुख्यमंत्री को इस आपराधिक कृत्य के लिए छात्र और युवा माफ नहीं करेंगे.”

एक अन्य ट्वीट में तेजस्वी ने लिखा, “क्या आप जानते हैं कि नीतीश सरकार के निकम्मेपन के कारण बिहार में ग्रैजुएशन करने में 6-8 वर्ष और पोस्ट ग्रैजुएशन करने में 4-6 वर्ष लगते हैं? आत्ममुग्ध नीतीश कुमार ने विगत 15 वर्षो में मीठा जहर देकर बिहार की शिक्षा व्यवस्था का निर्ममता से कत्ल किया है.”

तेजस्वी ने अन्य लोगों से इस विषय में सोचने की अपील करते हुए एक अन्य ट्वीट में लिखा, “साथियों, राजनीति से ऊपर उठकर सोचिए, समझिए और पहचानिए कि विगत 15 वर्षो में प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था की मृत प्राय: स्थिति क्यों और किसके द्वारा की गई? यह आपकी वर्तमान और भविष्य का ही नहीं, अपितु आने वाली पीढ़ियों के सुनहरे भविष्य का भी सवाल है.”

बताना जरूरी है कि महागठबंधन में शामिल दल इन दिनों राज्य की शिक्षा व्यवस्था को लेकर सरकार पर हमलावर हैं. पिछले दिनों राज्य की शिक्षा-व्यवस्था को लेकर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी) के प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा अनशन पर भी बैठे थे. पहले एनडीए में रहे और लोकसभा चुनाव से पहले आरजेडी की अगुआई में बने महागठबंधन में शामिल कुशवाहा की नीतीश कुमार से नाराजगी जगजाहिर है.

 

ये भी पढ़ें –

तेजस्‍वी को लालू ने दिया झटका! बेटे को चुनाव हरवाने वाले जगदानंद सिंह बने RJD प्रदेश अध्‍यक्ष

अब लोजपा ने बजाई खतरे की घंटी! भविष्‍य में एनडीए से अलग लड़ने की बात कही