नीतीश कुमार हमारे कप्तान हैं और आगे भी रहेंगे, रामविलास पासवान के बयान के क्या हैं मायने?

11 सितंबर को रामविलास पासवान ने अपने एक बयान में कहा था कि बिहार के अगले विधानसभा चुनाव में भी नीतीश कुमार ही एनडीए का चेहरा बने रहेंगे.

नई दिल्ली: राजनीति में कब कौन किस करवट बैठे पता नहीं. वहीं अगर बात करें केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की तो बतौर लालू यादव (राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष) वो राजनीति के ‘मौसम वैज्ञानिक’ है. अगर आप उनके इतिहास को देखेंगे तो पाएंगे वो जब-जब जिस पार्टी में गए हैं सरकार उनकी ही बनी है. इतना ही नहीं रामविलास पासवान की वरिष्ठता को देखते हुए उन्हें मज़बूत मंत्रालय भी मिला है.

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने एक बार फिर से ऐसा कुछ बोला है कि राजनीतिक पंडितों के कान खड़े हो गए हैं. बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले नीतीश कुमार को लेकर उन्होंने एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने ‘द हिंदू’ अखबरा को दिए इंटरव्यू में कहा कि नीतीश कुमार हमारे कप्तान हैं और वह आगे भी रहेंगे जब तक बीजेपी कोई नया कप्तान मैदान में न उतार दे.

रामविलास पासवान के इस बयान को बिहार के नए राजनीतिक समीकरण से जोड़कर देखा जा रहा है. लोकसभा चुनाव- 2019 में लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) ने अपने सभी छह सीटें जीतीं हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव में पार्टी पहले की तुलना में ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहेगी. बिहार में फिलहाल एलजेपी के पास सिर्फ दो विधायक हैं. जबकि बीजेपी के पास 52 और जेडीयू के पास 67.

गौरतलब है कि 11 सितंबर को ही रामविलास पासवान ने अपने एक बयान में कहा था कि बिहार के अगले विधानसभा चुनाव में भी नीतीश कुमार ही एनडीए का चेहरा बने रहेंगे. रामविलास पासवान ने कहा था कि नीतीश कुमार को लेकर कोई बात नहीं है. नीतीश कुमार बिहार में NDA का चेहरा हैं और आगे भी वही चेहरा रहेंगे. उन्होंने कहा था कि ‘बीजेपी के नेताओं से मेरी बातचीत होती रहती है और बीजेपी के कुछ नेता कह देंगे तो वह पार्टी लाइन नहीं हो जाएगी.’

वहीं कुछ बीजेपी नेताओं ने भी पिछले सप्ताह कहा था कि पार्टी इस विधानसभा चुनाव में किसी नए चेहरे को गठबंधन का उम्मीदवार बनाने पर विचार कर सकती है. हालांकि, बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने इस तरह की अटकलों को गलत बताते हुए इसे सिरे से खारिज कर दिया था.

सुशील मोदी के बाद अब रामविलास पासवान भी बोल रहे हैं कि नीतीश हैं एनडीए का चेहरा और रहेंगे.