एंबुलेंस के इंतजार में सड़क पर स्ट्रेचर पर पड़ा रहा जीनियस गणितज्ञ वशिष्‍ठ नारायण का शव, लड़ते रहे नेता

सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें आप देख सकते हैं कि देश के महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का पार्थिव शरीर ऐसे ही अस्पताल से बाहर स्ट्रेचर पर रखा हुआ है.

महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण के पार्थिव शरीर को लेकर कई दलों के नेता आपस मे उलझ पड़े, जबकि पहले उनका शव अस्पताल की सड़क पर स्ट्रेचर पर पड़ा रहा था. गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के देहांत के बाद सबसे बड़े सरकारी अस्पताल पीएमसीएच प्रशासन की लापरवाही सामने आई.

अस्पताल प्रशासन ने उनके पार्थिव शरीर को ले जाने के लिए एंबुलेंस तक की व्यवस्था नहीं की और कुछ देर तक उनका पार्थिव शरीर स्ट्रेचर पर ही बाहर सड़क पर पड़ा रहा.

वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन की सूचना मिलने पर अस्पताल में नेताओं के आने का सिलसिला शुरू हुआ. इस दौरान जदयू नेता छोटू सिंह और पप्पू यादव आपस में ही उलझ पड़े. इस पूरे वाकये में जिला प्रशासन भी वहां मौजूद था जो बीच बचाव करता हुआ दिखा.

हालांकि काफी देर तक नेताओं के बीच आपस में ये विवाद चलता रहा कि वशिष्ठ नारायण की देखभाल किसने की? वहीं जदयू नेता ने वशिष्ठ नारायण के पार्थिव शरीर की उपेक्षा पर सफाई दी कि तुरंत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसका संज्ञान लिया है. जदयू नेता ने कहा कि उन्हें यहां भेजा गया था, लेकिन तब तक पप्पू यादव वहां पहुच चुके थे. इसी बीच वशिष्ठ नारायण सिंह के पार्थिव शरीर को लेकर दोनों नेता आपस में झगड़ने लगे.

वहीं इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें आप देख सकते हैं कि देश के महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का पार्थिव शरीर ऐसे ही अस्पताल से बाहर स्ट्रेचर पर रखा हुआ है.

यह वीडियो जाने माने कवि कुमार विश्वास ने अपने ट्विटर पर भी शेयर किया है. इस वीडियो को शेयर करते हुए कुमार विश्वास ने लिखा, “उफ़्फ़, इतनी विराट प्रतिभा की ऐसी उपेक्षा? विश्व जिसकी मेधा का लोहा माना उसके प्रति उसी का बिहार इतना पत्थर हो गया? नीतीश कुमार, गिरिराज सिंह, अश्विन कुमार चौबे और नित्यानंद राय आप सबसे सवाल बनता है! भारत मां क्यों सौंपे ऐसे मेधावी बेटे इस देश को, जब हम उन्हें सम्भाल ही न सकें?”

 

ये भी पढ़ें-   अपोलो मिशन में कंप्‍यूटर्स को दी थी मात, नहीं रहे आइंस्‍टीन को चुनौती देने वाले गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह

रात भर मोबाइल पर गेम खेलता रहा, सुबह उठा तो एक आंख से दिखना बंद