बिहार में अमित शाह की डिजिटल रैली, विधानसभा चुनाव से पहले NDA में दिखी दरार

बिहार (Bihar) में इसी साल विधान सभा के चुनाव होने हैं. चिराग पासवान (Chirag Paswan) के पिता और भारत सरकार में मंत्री राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) ने यह दावा किया कि बिहार में NDA को 225 से लेकर 242 सीटें मिलेंगी.
assembly election in bihar, बिहार में अमित शाह की डिजिटल रैली, विधानसभा चुनाव से पहले NDA में दिखी दरार

बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की मुख्य सहयोगी पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) मुख्यमंत्री नितीश कुमार (Nitish Kumar) से नाराज़ चल रही है. यह नाराजगी उस वक्त सामने आई, जब अमित शाह (Amit Shah) बिहार में रविवार को डिजिटल रैली का आगाज़ करने जा रहे हैं. यह आगाज़ बिहार में चुनावी शंखनाद का बिगुल माना जा रहा है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

लोजपा (LJP) ने मुख्यमंत्री नितीश कुमार के नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाया है. हालांकि, LJP अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने यह साफ किया कि चाहे वह नीतीश कुमार के साथ जाएं या अपना मन बदलें, वह BJP के साथ ही रहेंगे.

कोरोना संकट और अंदरूनी कलह

चिराग पासवान के पिता और भारत सरकार में मंत्री राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) ने भी कोरोना संकट के समय बिहारी मजदूरों के घर वापसी न कराने को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की थी. उन्होंने राज्य सरकार पर यह आरोप लगाया था कि वह इस संकट से निपटने में कारगर नहीं रही. पासवान ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की तारीफ़ की.

एक सवाल कि ‘बिहार में मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा’, के जवाब में पासवान ने कहा कि यह बीजेपी पर निर्भर करता है और हम उसके फैसले के साथ हैं. इस बीच पासवान ने यह दावा भी किया कि बिहार में NDA को 225 से लेकर 242 सीटें मिलेंगी. बिहार में इसी साल विधान सभा के चुनाव होने हैं.

लॉकडाउन के बीच JDU और BJP में दरार की अटकलें

बीजेपी पहले ही नितीश कुमार को अपना मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित कर चुकी है, लेकिन प्रवासी संकट और कोरोनोवायरस लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown) के बीच JDU और BJP में दरार की अटकलें लगाई जा रही हैं. इन अटकलों के बीच अमित शाह डिजिटल रैली कर रहे हैं. बिहार के बीजेपी नेताओं का कहना है कि पार्टी अब मुख्यमंत्री के नए चेहरे पर फैसला लेने की स्थिति में नहीं है, हालांकि उन्होंने यह भी माना कि श्रमिकों की घर वापसी में देरी हुई है.

राजनीति के द्वंद में पिसते मजदूर

नितीश कुमार पर बड़ा आरोप यह है कि उन्होंने केंद्र सरकार से श्रमिक ट्रेनों (Special Train) को रोकने के लिए कहा था. पासवान ने कहा कि अगर श्रमिकों की समस्या को सही समय पर हल किया जाता तो ज्योति कुमारी का उदाहरण देखने को नहीं मिलता और बिहार लौट रहे मज़दूरों के मौत की ख़बर सुनने को नहीं मिलती और इसे रोका जा सकता था.

नौजवान लड़की ज्योति कुमारी का मामला उस वक्त सुर्खियों में आया, जब वह साइकिल से 1100 किलोमीटर का सफर तय कर अपने बीमार पिता को लेकर गुरूग्राम से दरभंगा पहुंची थी. इस घटना पर डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने भी ट्वीट किया था.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts