पप्पू यादव ने नीतीश कुमार को कहा बेशर्म, बोले- पटना बाढ़ में डूबा तो एक भी चॉपर नहीं था और…

पप्पू यादव ने ट्वीट करके सवाल किया है कि 'क्या नीतीश जी पटना जलजमाव में डूबा था तो लोगों को बचाने के लिए आपके पास एक चॉपर नहीं था ?'

जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मानव श्रृंखला को लेकर निशाना साधा है. यादव ने ट्वीट करके सवाल किया है कि ‘क्या नीतीश जी पटना जलजमाव में डूबा था तो लोगों को बचाने के लिए आपके पास एक चॉपर नहीं था ?’

पप्पू यादव ने ट्वीट किया, “क्या नीतीश जी पटना जलजमाव में डूबा था तो लोगों को बचाने के लिए आपके पास एक चॉपर नहीं था! आपके स्टेपनी डिप्टी सीएम तीन दिन तक फंसे रहे, बिहार की गौरव शारदा सिन्हा जी त्राहिमाम करती रही, एक अदद हेलीकॉप्टर नहीं था. आज मानव श्रृंखला की वीडियोग्राफी के लिए 15 हेलिकॉप्टर! बेशर्म कहीं के!”


दूसरी तरफ, राजद अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद ने नीतीश कुमार की महत्वाकांक्षी जल-जीवन-हरियाली योजना को ‘जल-छीजन-घड़ियाली’ बताते हुए नीतीश को आत्ममुग्ध बताया.

लालू प्रसाद ने ट्वीट किया, “गरीबों का 24500 करोड़ रुपये ‘छल छीजन घड़ियाली’ के नाम पर लूटा और अब करोड़ों मानव श्रंखंला के नाम. आम नागरिक के धन की बर्बादी व नौटंकी की यह पराकाष्ठा है. बाढ़ राहत में कभी ‘पलटूराम’ ने 18 हेलिकॉप्टर नहीं लगाए जो अब मानव श्रंखला का फोटू खिंचवाने के लिए करोड़ों रुपये खर्च कर 18 हेलिकाप्टर मंगवाए हैं.”


लालू ने एक अन्य ट्वीट में सवाल किया, “कड़ाके की ठंड में मानव श्रंखला में अगर अधिकारी जबरदस्ती बूढ़े, बच्चों, औरतों, स्कूली छात्रों व आम नागरिकों को खड़ा करे तो उसका वीडियो बनाकर डाल देना. करोड़ों का सरकारी खर्च, फोटो खींचने के लिए 18 हेलिकाप्टर, मुंबई से फोटोग्राफर और काम धेले का नहीं. यह नौटंकी और फिजूलखर्ची क्यों?”

लालू यहीं नहीं रुके. उन्होंने आगे बिहार की व्यवस्था पर निशाना साधते हुए लिखा, “नीतीश जी, आपके पास दुर्गति की मार झेल रहे स्कूलों, अस्पतालों, छात्रों, युवाओं, किसानों, गरीबों की स्थिति में सुधार के लिए पैसे नहीं हैं, लेकिन अपने अनैतिक महिमामंडन के लिए फिजूलखर्ची में खर्च करने के लिए करोड़ों रुपये हैं?”

नीतीश को एक असंवेदनहीन आत्ममुग्ध तानाशाह बताते हुए लालू ने आगे लिखा, “नीतीश एक असंवेदनहीन आत्ममुग्ध तानाशाह हैं. जनता की तकलीफों का उन्हें कण भर भी अहसास नहीं. राज्य के स्कूल, कॉलेज, अस्पताल बदहाली का रोना रो रहे हैं. करोड़ों युवा बेरोजगार बैठे हैं, लेकिन ये सरकारी खर्चे पर राजनीतिक यात्रा कर खजाने का करोड़ों लूट रहे हैं और करोड़ों बर्बाद कर रहे हैं.”

उल्लेखनीय है कि लालू इन दिनों चारा घोटाले के कई मामलों में जेल की सजा काट रहे हैं, परंतु जेल से ही नीतीश पर निशाना साध रहे हैं.

ये भी पढ़ें-

मनोज शशिधर होंगे CBI के नए ज्वाइंट डॉयरेक्टर, गुजरात-कैडर के हैं IPS अधिकारी

जेपी नड्डा का निर्विरोध BJP अध्यक्ष चुना जाना तय, 20 जनवरी को होगी ताजपोशी

दिल्ली चुनाव: पूर्वांचली चेहरों को टिकट देने में BJP ने की कंजूसी, सिर्फ 8 पर जताया भरोसा