बिहार में बाढ़ का कहर तो थमा लेकिन जलजलाव बना मुसीबत, डेंगू और चिकनगुनिया का खतरा मंडराया

कई दिनों तक बारिश होने से बिहार के हालात खराब हो गए थे. सबसे ज्यादा हालात तो राजधानी पटना के खराब हुए थे. बाढ़ के पानी की निकासी न होने से नाराज लोगों ने शनिवार को राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया.
बिहार चिकनगुनियां, बिहार में बाढ़ का कहर तो थमा लेकिन जलजलाव बना मुसीबत, डेंगू और चिकनगुनिया का खतरा मंडराया

पटना: बिहार पर पहले तो बाढ़ और बारिश ने कहर बरपाया अब महामारी का खतरा बढ़ता जा रहा है. बाढ़ और बारिश में मरने वालों की संख्या 161 से ज्यादा हो गई है. राज्य भर से डेंगू के 666 मामले सामने आए हैं जिसमें से अकेले पटना में डेंगू के 405 मामले हैं. वहीं चिकनगुनिया के 73 मामले सामने आए हैं, जिसमें से 60 मामले पटना के हैं. पटना में अब भी राहत और बचाव के काम में NDRF और SDRF की टीमें लगी हैं.

लगातार कई दिनों तक बारिश होने से बिहार के हालात खराब हो गए थे. सबसे ज्यादा हालात तो राजधानी पटना के खराब हुए थे. बाढ़ के पानी की निकासी न होने से नाराज लोगों ने शनिवार को राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया. इस दौरान लोगों ने स्थानीय प्रशासन व राज्य सरकार से उन्हें राहत प्रदान करने की मांग की. पटना के दानापुर इलाके के निवासियों ने गोला रोड टी पॉइंट के पास सड़क पर जाम लगा दिया.

इस दौरान लोगों ने टायर जलाए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. उन्होंने कहा कि पटना नगर निगम और अन्य सरकारी एजेंसियां छह दिन पहले बारिश बंद होने के बाद भी कॉलोनियों और अपार्टमेंटों से बाढ़ के पानी को बाहर निकालने में विफल रही हैं. स्थानीय पुलिस अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों से सड़क पर की गई नाकेबंदी को खत्म करने का अनुरोध किया.

Related Posts