‘क्यों न करें विचार, बिहार जो है बीमार’ JDU के पोस्टर पर RJD का प्रहार

पोस्टर वार के ज़रिए बिहार में समय से पहले ही चुनाव की सुगबुगाहट तेज़ हो गई है.


पटना: बिहार में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाला है लेकिन अभी से ही पोस्टर वॉर छिड़ गया है. जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने नया नारा दिया है- “क्यूं करें विचार, ठीके तो है नीतीश कुमार”. पटना के कई चौराहों पर इस नारे के पोस्टर लगे हैं. इस पोस्टर के लगते ही विरोध में RJD (राष्ट्रीय जनता दल) ने भी पोस्टर लगा दिया है. पोस्टर में लिखा है- क्यों न करें विचार, बिहार जो है बीमार.

JDU ने एक और नारा जारी किया है- सच्चा है, अच्छा है. चलो, नीतीश के साथ चलें.”

वहीं RJD प्रवक्ता चितरंजन गगन कहते हैं कि ‘बिहार में चमकी बुख़ार से सैकड़ों बच्चे मर गए हैं, क़ानून-व्यवस्था चरमरा गई है, बाढ़ आई, सूखा आया.. कहीं भी सरकार और प्रशासन नाम की चीज़ दिखाई नहीं दी. जेडीयू के अंदर भी लोग मजबूरी में नीतीश कुमार को स्वीकार कर रहे हैं. इसलिए नीतीश कुमार के नाम पर पुनर्विचार करने का कोई सवाल ही नहीं उठता है.’

यानी कि पोस्टर वार के ज़रिए बिहार में समय से पहले ही चुनाव की सुगबुगाहट तेज़ हो गई है. बता दें पिछले विधानसभा चुनाव में भी JDU का नारा खूब चर्चित हुआ था. प्रशांत किशोर की अगुवाई में नारा दिया गया था- ‘बिहार में बहार है, नीतीशे कुमार है’.

ज़ाहिर है बिहार में एक साल बाद चुनाव होना है. ऐसे में जेडीयू द्वारा पोस्टर के ज़रिए मतदाता को लुभाने की तौयारी दर्शाती है कि पार्टी चुनावी तैयारी में पहले से कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती.

JDU का मानना है कि संगठन को बूथ स्तर पर मजबूत करना है. इसलिए बूथ तक पहुंचने की कोशिश शुरू कर दी गई है. इतना ही नहीं सदस्यता अभियान को गांव-गांव तक ले जाया जा रहा है. अधिक से अधिक लोगों को पार्टी से जोड़ने की कोशिश में पार्टी हर बूथ पर एक कमेटी बनाने पर विचार कर रही है. जिसमें एक अध्यक्ष, एक उपाध्यक्ष और कई सदस्य होंगे.