तेज प्रताप ने मां राबड़ी संग जलाई लालटेन, बोले- COVID-19 को भगाएंगे, लालटेन ही जलाएंगे

तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने ट्वीट किया, "यूं ही कट जाएगा सफर साथ चलने से, मंजिल आएगी नजर साथ चलने से. हम हर उस शख्स के साथ खड़े हैं जो इस भयावह महामारी की लड़ाई में अपना योगदान दे रहा है."
Rashtriya Janata Dal RJD, तेज प्रताप ने मां राबड़ी संग जलाई लालटेन, बोले- COVID-19 को भगाएंगे, लालटेन ही जलाएंगे

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) नेता राबड़ी देवी और उनके बेटे तेज प्रताप यादव ने पटना स्थित अपने आवास पर रविवार रात 9 बजे लालटेन जलाई. राबड़ी और तेज प्रताप दोनों ही नेता अपने हाथों में दो-दो लालटेन लिए हुए नजर आ रहे हैं. लालटेन राजद का चुनाव चिह्न है.

तेज प्रताप ने ट्वीट किया, “यूं ही कट जाएगा सफर साथ चलने से, मंजिल आएगी नजर साथ चलने से. हम हर उस शख्स के साथ खड़े हैं जो इस भयावह महामारी की लड़ाई में अपना योगदान दे रहा है. COVID-19 के अन्धकार को भगाएंगे, लालटेन ही जलाएंगे.”


इससे पहले ही तेज प्रताप ने ऐलान कर दिया था कि वह इस मौके पर लालटेन जलाएंगे. शाम करीब 7 बजे तो उन्‍होंने ट्वीट कर बिहार को चैंलेंज भी दिया था.

पीएम मोदी ने की थी अपील

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 मार्च की रात 9 बजे के लिए देशवासियों से एक खास अपील की थी. कोरोना वायरस के खिलाफ देश की एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए पीएम ने सुझाव दिया था कि इस वक्‍त 9 मिनट के लिए घरों की बत्तियां बुझा दी जाएं. उसकी जगह दीये, मोमबत्‍ती, टॉर्च जलाए जाएं.

पीएम मोदी ने आवास की कुछ तस्‍वीरें शेयर की हैं. इसके साथ उन्‍होंने एक श्लोक ट्वीट किया, “शुभं करोति कल्याणमारोग्यं धनसंपदा. शत्रुबुद्धिविनाशाय दीपज्योतिर्नमोऽस्तुते..’


इस श्लोक का अर्थ है- जो शुभ करता है, कल्याण करता है, आरोग्य (स्वास्थ्य) रखता है, धन-संपदा देता है और शत्रु बुद्धि का विनाश करता है, ऐसे दीप की रोशनी को मैं नमन करता हूं.

रामविलास पासवान ने परिवार संग जलाई दीया

वहीं, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और उनके पुत्र व लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान समेत उनके परिवार के सभी सदस्यों ने दीये जलाए.


पासवान ने टवीट करके कहा, “आज ठीक 9 बजे समस्त 130 करोड़ देशवासी जब कोरोना के इस घनघोर अंधकार की लड़ाई में अद्भुत, अलौकिक एकजुटता के साथ अपनी देहरी पर हाथों में दीप, ज्योति का तेजोमय हथियार लिए खड़े हुए, वह एक गौरवशाली क्षण था. अखंड एकता के इस महायज्ञ में मैं भी सपरिवार शामिल रहा.”

Related Posts