रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने नतीजों से पहले ही मानी हार

उपेंद्र कुशवाहा ने लोकसभा चुनाव में काराकाट और उजियारपुर, दो सीटों पर चुनाव लड़ा था, परंतु दोनों सीटों पर वह बड़े अंतर से पिछड़ते जा रहे हैं. 

पटना: एक तरफ जहां लोकसभा चुनाव की सभी सीटों पर वोटों की गिनती जारी है और बीजेपी इस दौरान बढ़त बनाए हुए है. वहीं बिहार की लोकसभा सीट के एक प्रत्याशी ऐसे भी हैं जिन्होंने नतीजों से पहले ही अपनी हार स्वीकार कर ली है.

लोकसभा चुनाव की मतगणना के प्रारंभिक रुझानों में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में मिली भारी बढ़त और महागठबंधन में शामिल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के बुरी तरह पिछड़ने के बाद रालोसपा अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने हार स्वीकार कर ली है.

बता दें कि उपेंद्र कुशवाहा ने लोकसभा चुनाव में काराकाट और उजियारपुर, दो सीटों पर चुनाव लड़ा था, परंतु दोनों सीटों पर वह बड़े अंतर से पिछड़ते जा रहे हैं.

कुशवाहा ने हार स्वीकार करते हुए कहा कि जनता का निर्णय सर आंखों पर.

उन्होंने ट्वीट किया, “महागठबंधन, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के लिए किसी पर आरोप लगाने के बजाए आत्म-मंथन करने का समय है. यह जीत किसी उम्मीदवार या राज्य सरकार में सत्तासीन नेताओं की नहीं, जनता के नब्ज को विपक्ष के नेताओं द्वारा सही से नहीं समझ पाने का नतीजा है.”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने हार की समीक्षा करने की बात करते हुए लिखा, “आगे की लड़ाई के लिए चुनाव परिणाम की समीक्षा करते हुए ठोस और गंभीर रणनीति की आवश्यकता है. बिना समय गंवाए हमें इस ओर बढ़ना है. जनता का निर्णय सर आंखों पर.”

गौरतलब है कि इस चुनाव में कुशवाहा ने राजग छोड़कर महागठबंधन का दामन थाम लिया था. महागठबंधन की ओर से रालोसपा के हिस्से पांच सीटें आई थीं.