संस्मरण लिखने की बात करते हुए शिवानंद तिवारी ने छोड़ा RJD उपाध्यक्ष का पद

शिवानंद तिवारी पद छोड़ने के पहले कई बार तेजस्वी यादव के तौर तरीकों को लेकर सवाल उठा चुके हैं.

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद छोड़ दिया है. उन्होंने संस्मरण लिखने के लिए लंबी राजनीतिक विराम का हवाला देते हुए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद से इस्तीफ दिया. हालांकि वो इसके पहले भी कई बार तेजस्वी यादव के तौर तरीकों को लेकर सवाल उठा चुके हैं.

जानकारी के मुताबिक शिवानंद तिवारी जनता दल यूनाइटेड प्रमुख नीतीश कुमार को महागठबंधन में वापस लाने का प्रयास कर रहे थे. हालांकि हाल ही में तेजस्वी यादव ने नो एंट्री कह कर ऐसे किसी भी प्रयास पर विराम लगा दिया था.

हालांकि शिवानंद तिवारी ने पद छोड़ने के कुछ और ही कारण गिनाए. उन्होंने कहा कि वह काफी थकान अनुभव कर रहे हैं. उनका कहना है कि यह थकान शरीर से ज्यादा मन की है. शिवानंद तिवारी ने संस्मरण लिखने की भी बात कही. उनका कहना है कि वह संस्मरण लिखना चाहते हैं, लेकिन वह व्यस्तता के चलते ऐसा नहीं कर पा रहे हैं. ऐसे में उन्होंने कहा कि वह “जो कर रहे हैं उससे छुट्टी पाना चाहते हैं.

उन्होंने कहा, “संस्मरण लिखने का प्रयास करूंगा. लिख ही दूंगा, ऐसा भरोसा भी नहीं है. लेकिन प्रयास करूंगा. इसलिए RJD की ओर से जिस भूमिका का निर्वहन अब तक मैं कर रहा था, उससे छुट्टी ले रहा हूं.

ये भी पढ़ें: सावरकर पर शोर के बीच ज़रा अशफ़ाक़ की वो क़ुर्बानी याद कर लें