इलाज जरूरी, CM का आना नहीं: नीतीश के मुजफ्फरपुर दौरे पर बोले मंत्री

श्याम रजक ने कहा कि मुख्यमंत्री का यहां आना उतना महत्वपूर्ण नहीं है, महत्वपूर्ण है इलाज और व्यवस्था. सीएम नीतीश खुद इस कार्य में लगे हुए हैं.

पटना: बिहार के मंत्री श्याम रजक सोमवार को मुजफ्फरपुर जिले के SKMCH अस्पताल का दौरा करने पहुंचे. श्याम रजक ने दावा किया कि वो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रतिनिधि के रूप के आये हैं. उन्होंने कहा कि राज्य में इंसेफेलाइटिस से हो रही बच्चों की मौतों से मुख्यमंत्री बहुत चिंतित हैं.

‘CM नीतीश का आना महत्वपूर्ण नहीं’
श्याम रजक से जब पूछा गया कि क्‍या मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार बीमार बच्‍चों का हाल जानने के लिए मुजफ्फरपुर जाएंगे? इस पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का यहां आना उतना महत्वपूर्ण नहीं है, महत्वपूर्ण है इलाज और व्यवस्था. उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश खुद इस कार्य में लगे हुए हैं.


‘आक्रोशित परिजनों ने किया घेराव’
श्याम रजक का आक्रोशित परिजनों ने घेराव कर दिया. श्याम को गाड़ी में बैठकर भागना पड़ा. लोगों का आरोप है कि कुव्यवस्था की वजह से बच्चे अस्पताल में मर रहे हैं.परिजनों का कहना है कि अस्पताल में पीने का पानी तक मयस्सर नहीं है.

अबतक 101 बच्चों की हुई मौत
बता दें कि बिहार के मुजफ्फरपुर में AES (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) या इंसेफेलौपैथी से मरने वालों बच्चों की संख्या बढ़कर 101 हो गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस साल उत्तर बिहार में अबतक एईएस के कारण 129 बच्चों की मौत हो चुकी है. रविवार को इंसेफेलाइटिस से पीड़ित 15 और बच्‍चों की मौत हो गई. इसमें नौ बच्‍चों की मौत केवल मुजफ्फरपुर में हुई.

ये भी पढ़ें-

‘ये है आपका रामराज्य, मोदी जी जवाब दीजिए’, नाना पाटेकर को पुलिस की क्लीन चिट पर भड़कीं तनुश्री दत्ता

बैलेट पेपर से फिर चुनाव कराने को याचिका, SC ने पूछा- सुनवाई की क्‍या जल्‍दी है?

हर्षवर्धन-प्रताप चंद्र सारंगी ने संस्कृत में ली शपथ, संसद में गूंजे ‘जय श्री राम’ के नारे