Bihar Assembly Election 2020: चुनावी मैदान में करोड़पतियों के बहार बा, 162 में से 53 पर नीतीशे कुमार बा

एडीआर ( ADR ) के आंकड़ों के मुताबिक 2005 के विधानसभा चुनाव में केवल 8 अरबपति चुनावी मैदान में थे जो पिछले विधानसभा चुनाव ( Bihar Election 2020) तक बढ़कर 162 हो चुके हैं. उम्मीद की जा रही है कि इस बार इस संख्या में और इजाफा होगा.

बिहार विधानसभा चुनाव का काउंटडाउन शुरु हो चुका है और दिवाली से पहले नतीजे भी आ जाएंगे. दिवाली से पहले ही पता लग जाएगा कि किस पार्टी की दिवाली होगी और किसका दिवाला निकलेगा. लेकिन बीते 10 साल के आंकड़ों पर नजर डाले तो एक बात साफ पता लगती है और वो है कि बिहार में बाहुबलियों की संख्या बढ़ न बढ़े लेकिन अरबपति विधायकों की संख्या में 20 गुना से ज्यादा बढ़ी है. एडीआर के आंकड़ों के मुताबिक 2005 के विधानसभा चुनाव में केवल 8 अरबपति चुनावी मैदान में थे जो पिछले विधानसभा चुनाव तक बढ़कर 162 हो चुके हैं. उम्मीद की जा रही है कि इस बार इस संख्या में और इजाफा होगा.

नीतीशे कुमार के बहार बा
बिहार का यह चुनाव कई मामलों में रोमाचंक माना जा रहा है. एक ओर उपेंद्र कुशवाहा ने मायावती के साथ मिलकर झंडा बुलंद किया है तो वहीं पप्पू कुमार भी मैदान मारने की पूरी तैयारी में हैं. राजद की बात करें तो लालू के लाल इस बार सबको टेन करने में पूरा जोर लगाए बैठे हैं. लेकिन बहार तो नीतिशे कुमार के बा. जी हां अमीरी और दौवतमंद विधायकों की बात करें तो बीते 3 विधान सभा चुनाव में सबसे ज्यादा अरबपति विधायक नीतीश कुमार की पार्टी से ही हैं. पिछले साल भी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के अकेले 53 करोड़पति विधायक मैदान में थे. नीतीश के सहयोगी बीजेपी से 32 अरबपति विधायकों के पर्चा भरा था. माना जा रहा है कि इस बार नीतीश कुमार का जोर और बढ़ने वाला है.

बिहार में लालटेन अमीरी का प्रतीक

यूं तो लालटेन गरीबों के घर में जला करता है. लेकिन बिहार चुनावी में अरबपति विधायकों के मामले में लालटने दूसरे नबंर पर है. जेडीयू के बाद सबसे ज्यादा 51 अरबपति विधायकों में बीते चुनाव में पर्चा भरा था. तो वहीं कांग्रेस के खाते में केवल 13 अरबपति विधायक आए थे.

 

महिला विधायकों की संख्या में गिरावट

एक तरफ बिहार में अरबपति विधायकों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. बीते 10 साल में इसमें 20 गुना से ज्यादा इजाफा देखने को मिला है. वही महिला विधायकों की संख्या लगातार कम होती जा रही है. 2005 के विधानसभा चुनाव में 35 महिलाएं विधायक बनी थीं. 2010 के चुनाव में इनकी संख्या घटकर 34 हो गई. जो 2015 में घटकर केवल 28 रह गई. मतलब मौजूदा विधानसभा में केवल 11.5% महिला विधायक हैं.

20 में 10 जेडीयू के रईस

विहार विधानसभा चुनाव 2015 में यूं तो सबसे अमीर विधायक बीजेपी के सुरेश कुमार रहे थे. लेकिन जीते हुए 20 करोड़पति विधायकों में से 10 अरबपति विधायक नीतिश कुमार की पार्टी जेडीयू से ही थे. हालांकि कई अरबपित विधायकों ने जीतने के बाद पाला बदल लिया था. जिसकी वजह से सारे समीकरण उलट पुलट हो गए थे. इसलिए आप भी वोट देने से पहले केवल करोड़ों की कमाई न देखें बल्कि आपके क्षेत्र में कितना काम हुआ है इसके आधार पर इन करोड़पतियों को नापे.

Related Posts