लूटघर: फ्लैट की डिलीवरी डेट निकल गई और नींव की खुदाई तक शुरू नहीं हुई

ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) के एक हाउसिंग प्रोजेक्ट में होम बायर्स ने 2010 में फ्लैट बुक किया था. दस साल बाद भी अभी फ्लैट (Flat) का निर्माण शुरू नहीं हुआ है.

Maradu, Maradu Flats, Maradu Building, maradu demolition, maradu flat news, maradu apartments, maradu flat issue
प्रतीकात्मक फोटो

अपनी ‘लूटघर’ (Lootghar) सीरीज में हम ऐसे होम बायर्स की कहानी बताते हैं जिन्होंने अपने आशियाने के सपने को पूरा करने के लिए जीवनभर की पूंजी बिल्डर (builder) को सौंप दी. कुछ धोखेबाज बिल्डरों ने ऐसे भोलेभाले होम बायर्स को ठगा और उन्हें लूटकर फरार हो गए. होम बायर्स (Home Buyers) के घर का सपना अभी भी अधूरा है.

ग्रेटर नोएडा के एक हाउसिंग प्रोजेक्ट में अपनी पूंजी लगा चुके होम बायर्स परेशान हैं. उनका आरोप है कि मोटी रकम लेकर भी बिल्डर ने उन्हें धोखा दिया. अब होम बायर्स को मकान मिलने की उम्मीद टूटती नजर आ रही है.

पूरा मामला ग्रेटर नोएडा में पटेल इंजीनियरिंग लिमिटेड कंपनी की नियो टाउन प्रोजेक्ट का है. 2010 में जब यह प्रोजेक्ट लॉन्च हुआ तो 19 टावर बनने थे. होम बायर्स का आरोप है कि दस सालों में कई टावरों की नींव तक नहीं डाली गई है घर मिलना तो अब दूर की कौड़ी नजर आता है.

भरोसा शब्द से उठ गया भरोसा

उत्तर प्रदेश के प्रकाश सिंह जैसे खरीदारों का तो हौसला ही टूट चुका है. 2010 में 1125 स्क्वॉयर फ़ीट का एक फ़्लैट बुक कराया. कीमत 30 लाख रुपए थी. ज्यादा से ज्यादा 30 महीनों में घर की चाबी दिए जाने का एग्रीमेंट मिला, जिसमें देरी पर पेनाल्टी का भी जिक्र था लेकिन यहीं से ऐसे भंवरजाल में फंस गए जिससे आज तक निकल नहीं पाए.

आरोप है कि पिछले दस साल में बिल्डर ने उन्हें इतने धोखे दिए कि अब भरोसा शब्द से ही भरोसा उठ गया है. प्रकाश सिंह के मुताबिक़ पहले तो बिल्डर ने जमीन के मालिकाना हक के बगैर ही फ्लैट की बुकिंग शुरू कर दी. फ्लैट की डिलीवरी की डेट निकल गई लेकिन बिल्डिंग की नींव की खुदाई तक शुरू नहीं की.

PM को भी लिखी चिट्ठी

हंगामा करने पर बिल्डर ने 2012 में दूसरे टावर में फ्लैट देने का वादा कर 40 महीने की और मोहलत ले ली. फिर वो मियाद भी पूरी हो गई. परेशान होकर प्रकाश ने यूपी रेरा का दरवाजा खटखटाया पर न्याय नहीं मिला तो NCDRC पहुंचे, थाने के चक्कर काटे, पीएम को चिट्ठी लिखी, बायर्स एसोसिएशन के साथ धरना प्रदर्शन तक कर लिया लेकिन कोई राहत नहीं मिली.

2019 में बिल्डर ने इस प्रोजेक्ट में एक पार्टनर को जोड़ लिया. बिल्डर ने बायर्स को पार्टी दी तो खुलासा हुआ कि जिस फ्लैट के कागजात उनके पास हैं वो किसी और को बेचा जा चुका है. प्रकाश का आरोप है कि बिल्डर बिना किसी पुख्ता एग्रीमेंट के बार-बार उनका फ्लैट बदलता जा रहा है. होम बायर्स का कहना है कि बिल्डर ने अब उनका फोन तक उठाना बंद कर दिया है. साईट पर सिर्फ ठेकेदार मिलते हैं.

टीवी 9 भारतवर्ष की टीम बिल्डर का पक्ष जानने के लिए उसके ऑफिस पहुंची तो बिजनेस मैनेजर ने कैमरे पर दस दिन के अंदर काम शुरू कराने और दिसंबर से फ्लैट के हैंडओवर का भरोसा दे दिया लेकिन परेशान बायर्स इस बार झांसे में आने को तैयार नहीं दिखे.

अगर आप भी किसी बिल्डर की जालसाजी का शिकार हुए हैं या फिर आप भी सालों से अपने सपनों के घर को पाने का इंतजार कर रहे है या आपके पास किसी तरह का कोई सुझाव है तो आप हमें lootghar@tv9.com पर ईमेल कर सकते हैं. अगर कोई बिल्डर भी अपना पक्ष रखना चाहता है तो वो भी दिए गए मेल पर अपनी बात लिख सकता है.

Related Posts