सरकार पर कैग का बड़ा आरोप, लाभ दिखाने के लिए आंकड़ों में हेरफेर करता है रेलवे

अपने रिपोर्ट में कैग ( CAG ) ने ये सवाल उठाए हैं. कैग का आरोप है कि रेलवे ( Railway ) अपनी आर्थिक स्थिति को बेहतर दिखाने के लिए भविष्य में होने वाली कमाई को भी अपने वर्तमान खातों में जोड़कर दिखाया गया है.

file photo

आप सोचतें होंगे की भारतीय रेल की सबसे ज्यादा कमाई कहां से होती है. तो आपको एक चौकानें वाली बात बताते हैं. रेलवे विभाग सबसे ज्यादा कमाई कोयले की माल ढुलाई से करता है. नियंत्रक एंव महालेखा परीक्षक ( CAG ) की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है. इसके अलावा कैग ने आरोप लगाया है कि सरकार आंकड़ों में हेराफेरी करके भारतीय रेल को फायदे में दिखा रही है. हाल ही संसद में पेश किए गए अपने रिपोर्ट में कैग ने ये सवाल उठाए हैं. कैग का आरोप है कि रेलवे अपनी आर्थिक स्थिति को बेहतर दिखाने के लिए भविष्य में होने वाली कमाई को भी अपने वर्तमान खातों में जोड़कर दिखाया गया है.

ये भी पढ़े: अनिल अंबानी के बुरे दिन, बोले गहने बेचकर भर रहा हूं वकीलों की फीस, परिवार चला रहा है घर का खर्च

कोयले की ढुलाई से सबसे ज्यादा कमाई

नियंत्रक एंव महालेखा परीक्षक ( कैग ) की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि रेलवे कोयले ढुलाई से सबसे ज्यादा कमाई करता है। यह उसकी माल ढुलाई से होने वाली कमाई का तकरीबन आधा हिस्सा है। भारतीय रेलवे कोयले की ढुलाई पर सबसे ज़्यादा निर्भर है और इसमें किसी भी तरह से बदलाव से उसकी कमाई पर बहुत बड़ा असर पड़ सकता है। इसलिए सरकार का फोकस है कि इस मद से होने वाली आय को और बढ़ाया जा सके.

गलत तरीके से दिखाया 3773 करोड़ का फायदा

रेलवे विभाग पर कैग का आरोप है कि विभाग ने भविष्य मे होने वाली कमाई को भी वर्तमान में जोड़कर दिखाया है. जिसके चलते रेलवे को 3773 करोड़ रुपए का फायदा दिखाया गया है जबकि ऐसा है नहीं. इसके अलावा कैग ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है कि रेलवे ने 2015-16 में एलआईसी से एक करार किया था जिसके तहत विभाग को 5 साल में 1.5 लाख करोड़ लोन के तौर पर मिलना था. लेकिन यहां से अबतक केवल 16,200 करोड़ ही मिल सका है.

ये भी पढ़ें: बंद होने के बाद भी भारत में मिलती रहेगी हार्ले डेविडसन की बाइक, बढ़ सकती है कीमत

रेलवे की आर्थिक स्थिति पर चिंता

भारतीय रेल की आर्थिक स्थिति पर चिंत जताते हुए कैग ने कहा है कि रेलवे के कई प्रोजेक्ट्स देरी से चल रहे हैं जिससे चलते कमाई पर खासा प्रभाव पड़ा है. कैग की रिपोर्ट के मुताबिक रेलवे के कुल 395 प्रजोक्ट्स में से 268 प्रोजेक्ट्स पूरे नहीं हो सके हैं.

 

Related Posts