क्यों हो रही है सेब से संतरे की तुलना? 2.7 ट्रिलियन की है भारतीय इकोनॉमी, केवल 250 बिलियन डॉलर पर खड़ा है बांग्लादेश

बांग्लादेश ( Bangladesh ) का विदेशी निवेश ( FDI ) महज 3 अरब डॉलर के करीब है. यह ठीक उसी तरह है जैसे सेब की तुलना संतरे से की जा रही हो. आइए समझते हैं आकड़ों की हकीकत.

PM Modi-sheikhhasina
PM Modi-sheikhhasina

इन दिनों बांग्लादेश सुर्खियों में छाया हुआ है. दरअसल अतंराष्ट्रीय मुद्रा कोष ( International Monetary Fund) ने अनुमान लगाया है कि आने वाले दिनों में बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति जीडीपी भारत से बेहतर हो जाएगी. इसमें कोई दो राय नहीं है कि बीते कुछ सालों में बांग्लादेश ने तरक्की की है. लेकिन भारत से बांग्लादेश की ये तुलना अस्थाई ही कही जा सकती है. क्योंकि आकड़ों की बात करें तो भारत की जनसंख्या बांग्लादेश के मुक़ाबले 8 गुना बड़ी है. दूसरी बात ये कि 2019 में भारत की पर्चेज़िंग पावर पैरिटी यानी ख़रीदने की क्षमता 11 गुना अधिक थी. किसी भी देश की ग्रोथ के लिए सबसे जरुरी होता है वहां विदेशी निवेश आना और इस मामले में बांग्लादेश काफी पीछे है. एक तरफ भारत का विदेशी निवेश जहां नए रिकॉर्ड बनाते हुए 500 अरब डॉलर के पार जा चुका है वहीं बांग्लादेश का विदेशी निवेश महज 3 अरब डॉलर के करीब है. यह ठीक उसी तरह है जैसे सेब की तुलना संतरे से की जा रही हो. आइए समझते हैं आकड़ों की हकीकत

ऐसे समझिए आकंड़ों का गणित

सरकारी सूत्रों के हवाले से छपी खबर के मुताबिक जनसंख्या के मामले में भारत बांग्लादेश से 8 गुना बड़ा है. तो ये ऐसी तुलना हो गई जैसे सेब और संतरे की होती है. दरअसल जिस देश की जनसंख्या ज़्यादा होगी, उस देश के लिए प्रति व्यक्ति जीडीपी आंकड़ा कम होगा. ये बिल्कुल सीधा सा गणित है.

कैसै तय होती है प्रति व्यक्ति जीडीपी

किसी देश में प्रति व्यक्ति के हिसाब से आर्थिक उत्पादन कितना हुआ है . इसकी गणना किसी देश के कुल सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी को उस देश की कुल जनसंख्या का भाग देकर निकाला जाता है. यह आधार वर्ष के हिसाब से तय किया जाता है. जो हर साल उत्पादन के लिहाज से बदलता रहता है. अब सीधा सा हिसाब है कि लॉकडाउन में दुनियाभर की सारी गतिविधियां बंद थी ऐसे में जिस देश की जनसंख्या ज्यादा होगी उसे ज्यादा नुकसान होगा.

क्या है बांग्लादेश की हकीकत

अर्थशास्त्रियों का मानना है कि भारत की ये गिरावट अस्थाई है, क्योकिं जिस देश की जनसंख्या जितनी बड़ी होती है उसमे बदलाव तेजी से देखा जाता है. वहीं अर्थव्यव्स्था की बात करें तो बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था भारत के मुकाबले काफी छोटी है. बांग्लादेश की इकोनॉमी 250 बिलियन अमरीकी डॉलर के आसपास की है, जबकि भारत की अर्थव्यवस्था तकरीबन 2.7 ट्रिलियन डॉलर की है.

कहां है बांग्लादेश की ग्रोथ

  • ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में बांग्लादेश की रैंकिंग 176 पायदान पर
  • कुल 190 देशों में बांग्लादेश की स्थिति 176 पर है
  • लालफीताशाही, खराब परिवहन और कमजोर आधारभूत ढांचा है खराब रैंकिंग की जिम्मेदार
  • सिंगापुर और वियतनाम जैसे देश बांग्लादेश से बहुत आगे
  • ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैंकिंग 116

इनके सहारे आगे बढ़ने की महत्वाकांक्षा

  • बांग्लादेश अपने आप को वैश्विक पटल पर लाने के लिए आईटी सेक्टर पर जोर दे रहा है
  • आईटी क्षेत्र में भारत से मुकाबला करने की महत्वाकांक्षा
  • 30 जून 2019 तक आईटी सर्विस और सॉफ़्टवेयर का निर्यात 80 करोड़ डॉलर
  • 2021 तक इसका लक्ष्य 5 अरब डॉलर रखा गया है
  • मौजूदा समय में आईटी सर्विस और सॉफ़्टवेयर का निर्यात 1 अरब डॉलर
  • एयरलाइन, इंश्योरेंस क्लेम, होटल बुकिंग सब ऑनलाइन होना शुरू

Related Posts