कोरोना में चली गई 50 करोड़ लोगों की नौकरियां, जुलाई और अगस्त में सबसे ज्यादा बेरोजगारी

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की संस्था के मुताबिक कोरोना के दौरान हुए लॉकडाउन से रोजगारों में कमी पाई गई. अगर कोरोना पर समय रहते कंट्रोल नहीं पाया गया तो जॉब रिकवरी में देर लग सकती है.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 2:33 pm, Thu, 24 September 20

कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामले भारत (India) समेत दुनियाभर में बढ़ते जा रहे हैं. इस महामारी के चलते दुनियाभर में 9 लाख से ज्यादा लोगों की वायरस के चलते मौत हुई है. ऐसे में एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर में लगभग 50 करोड़ लोगों को अपना रोजगार कोरोना की वजह से खोना पड़ा है. इसमें भारत के 2 करोड़ लोग भी शामिल हैं. इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन (International Labor Organization) के मुताबिक ये आंकड़ा और ज्यादा भी हो सकता है.

ये बात CMIE डाटा में ऑर्गनाइज्ड इंडस्ट्री को लेकर कही गई है. रिपोर्ट्स की मानें तो कोरोना वायरस के नतीजे काफी भयानक साबित हुए हैं. लोगों को इससे जितने नुकसान की उम्मीद थी परिणाम उससे कहीं ज्यादा घातक रहा है.

1 अक्टूबर से टीवी खरीदना होगा महंगा, सरकार ला रही है नया नियम

इंटरनेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन के अनुमान के अनुसार पूरी दुनिया में लगभग 3.5 ट्रिलियन डॉलर लेबर इनकम लॉस हुआ है. जून से लगातार आउटलुक गड़बड़ हुआ है. सिनेरियो की बात करें तो चौथी तिमाही में 245 मिलियन नौकरियों के बराबर का नुकसान हुआ है.

वहीं कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है कि सेकेंड हाफ में ये नुकसान और भी ज्यादा बढ़ सकता है. इंटरनेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन अनुसार जिन संस्थानों में वर्क फ्रॉम होम और इंफॉर्मल वर्क के ऑप्शन कम रहे हैं उनमें नौकरियों को ज्यादा नुकसान पहुंचा है. लॉन्ग टर्म में ये आंकड़े और भी परेशान करने वाले हैं.

डेबिट कार्ड नहीं अब आपके स्मार्टफोन से हो जाएगा पेमेंट, इस बैंक की नई सुविधा

संयुक्त राष्ट्र की संस्था के मुताबिक कोरोना के दौरान हुए लॉकडाउन से रोजगारों में कमी पाई गई. अगर कोरोना पर समय रहते कंट्रोल नहीं पाया गया तो जॉब रिकवरी में देर लग सकती है.

बता दें CMIE के आंकड़ों के मुताबिक कोरोना महामारी के दौरान भारत में 2 करोड़ नौकरियां जाने की बात सामने आई है. इनमें जुलाई और अगस्त महीने में 81 लाख लोग बेरोजगार हुए हैं.

पानी और कोरोना ने चीन के इस शख्स को बनाया अरबपति, अब मुकेश अंबानी को भी दे सकते हैं टक्कर