बड़ी स्क्रीन के चलते इस साल 16 करोड़ टैबलेट्स की बिक्री का अनुमान

मार्केट रिसर्च फर्म स्ट्रेटजी एनालिटिक्स के अनुसार यह पहली दफा है, जब कस्टमर्स का रूख बड़े डिस्प्ले की ओर देखने को मिल रहा है और वे 10 इंच या इससे अधिक बड़े डिवाइसों को वरीयता दे रहे हैं.

दुनिया भर में लोगों का झुकाव बड़े डिस्प्ले वाले डिवाइसों की ओर बढ़ता जा रहा है, जिसके परिणामस्वरूप साल-दर-साल टैबलेट की वैश्विक बिक्री में इजाफा देखने को मिल रहा है. साल 2020 में इसकी वैश्विक बिक्री लगभग 16.1 करोड़ (160.08 मिलियन) रहने का अनुमान है. एक नई रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है.

कोविड-19 के चलते पिछले 6 सालों की तुलना में कस्टमर्स के टैबलेट खरीदने की दर में सबसे ज्यादा तेजी देखी गई है और ऐसा पहली बार हुआ है, जब अधिकतर (56 फीसदी) शिपिंग 10 इंच वाले टैबलेट्स की हुई है.

मार्केट रिसर्च फर्म स्ट्रेटजी एनालिटिक्स के अनुसार यह पहली दफा है, जब कस्टमर्स का रूख बड़े डिस्प्ले की ओर देखने को मिल रहा है और वे 10 इंच या इससे अधिक बड़े डिवाइसों को वरीयता दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें- गूगल मीट के फ्री वर्जन में अब सिर्फ 60 मिनट की मीटिंग, अक्टूबर से शुरू होगी टाइम लिमिट

कोरोनावायरस महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन को इसकी एक प्रमुख वजह के तौर पर देख सकते हैं क्योंकि इस दौरान ऑनलाइन क्लासेज वगैरह की शुरुआत की गई थी, वर्क फ्रॉम होम को चलन में लाया गया था, घर पर रहने के दौरान लोग अपने मनोरंजन के लिए इसी तरह के डिवाइसों पर अधिक से अधिक समय बिताने लगे थे और इन सबके चलते बड़े डिस्प्ले को प्राथमिकताओं की सूची में पहले रखा गया था.

सैमसंग और एपल टैबलेट का बढ़ा वर्चस्व

साल की दूसरी तिमाही में यूरोप, मध्यपूर्व और अफ्रीका (ईएमईए) के टैबलेट मार्केट में सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स का दबदबा बना रहा. एक साल पहले की तुलना में टैबलेट की शिपिंग में लगभग 70 फीसदी तक की वृद्धि हुई है. इंडस्ट्री रिसर्चर इंटरनेशनल डेटा कॉर्प (आईडीसी) के मुताबिक, अप्रैल से जून तक की अवधि में इन बाजारों (ईएमईए) में सैमसंग ने 33.7 लाख टैबलेट भेजे हैं और इसी के साथ कंपनी की बाजार पूंजी 28.3 फीसदी हो गई है, जिसमें पिछले साल के मुकाबले 7.6 अंकों की बढ़ोतरी देखने को मिली है.

आईडीसी ने कहा, “पूरे क्षेत्र में बेहतरीन प्रदर्शन के साथ सैमसंग ईएमईए में शीर्ष पर रहा और कंपनी ने ऐसा खासकर कुछ विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में प्रसार करते हुए किया.”

लिस्ट में एपल दूसरे स्थान पर है, क्योंकि इसकी बाजार पूंजी पिछले साल 25 फीसदी से घटकर 21.5 प्रतिशत पर आकर रुक गई है. इसने 25.6 आईपैड्स की शिपिंग की है. रिपोर्ट के मुताबिक, तीसरे स्थान पर चीन की हुवावे टेक्नोलॉजीज है, जिसकी बाजार पूंजी 15 प्रतिशत है. सूची में 12.1 फीसदी के साथ लेनोवो चौथे और 3.8 फीसदी के साथ एमेजॉन डॉट कॉम पांचवे स्थान पर है.

ये भी पढ़ें- हुवावे ने पेटेंट कराया सैमसंग गैलेक्सी जेड फोल्ड2 जैसा स्मार्टफोन

Related Posts