त्यौहारी सीजन को लेकर एक्टिव हुआ फ्लिपकार्ट होलसेल, 12 नए शहरों में पसारे पैर

इस साल के अंत तक फ्लिपकार्ट होलसेल (Flipkart Wholesale) ने होम एवं किचन कटेगरी के साथ-साथ ग्रॉसरी सेगमेंट में भी विस्तार की योजना बनाई है.

flipkart to start selling food

डिजिटल बिजनेस टू बिजनेस (B2B) मार्केटप्लेस फ्लिपकार्ट होलसेल ने गुरुवार को त्यौहारी सीजन को देखते हुए 12 नए शहरों में एंट्री की घोषणा की. अब फ्लिपकार्ट होलसेल गाजियाबाद, फरीदाबाद, मैसुरू, चंडीगढ़ ट्रायसिटी, मेरठ, आगरा, जयपुर, थाने-भिवंडी-उल्हासनगर, ग्रेटर मुम्बई, वसई-मीरा-भयंदर, थाने (कल्याण-दोम्बीवली) और थाने (नवी मुम्बई) में भी ऑपरेट करेगा.

इन शहरों में फ्लिपकार्ट होलसेल ने फैशन कटेगरी के लिहाज से विस्तार किया है और साथ ही साथ इसका मकसद किराना और माइक्रो, छोटे और मझोले व्यवसायियों को डिजिटली मजबूत करना है.

इस साल के अंत तक फ्लिपकार्ट होलसेल ने होम एवं किचन कटेगरी के साथ-साथ ग्रॉसरी सेगमेंट में भी विस्तार की योजना बनाई है. अपने लॉन्च के समय फ्लिपकार्ट होलसेल गुरुग्राम, दिल्ली और बेंगलुरू मे सिर्फ फुटवियर तथा अपेरेल कटेगरी में उपलब्ध था.

ये भी पढ़ें- देश के 3.1 करोड़ लोग लेते हैं ड्रग्स, 10 लाख करोड़ का है कारोबार, पूरा मामला जानकर दंग रह जाएंगे आप

इससे पहले ई-कॉमर्स जाएंट फ्लिपकार्ट (Flipkart) ने कहा था कि वह इस त्यौहारी सीजन में 70 हजार सीधी नौकरियां पाने में लोगों की मदद करेगा. सीधी नौकरियां सप्लाई चेन के तहत होंगी और इसके लिए डिलिवरी एक्जक्यूटिव, पिकर्स, पैकर्स और शॉटर्स की भर्ती की जाएगी. इसके अलावा डायरेक्ट तौर पर फ्लिपकार्ट के सेलर पार्टनर लोकेशन और किराना दुकानों पर रोजगार उत्पन्न किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें- भारी गिरावट के साथ बाजार बंद, सेंसेक्स 1115 अंक टूटा, निवेशकों के डूबे 3.92 लाख करोड़ रुपये

ईकार्ट और मार्केटप्लेस, फ्लिपकार्ट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट अमितेश झा ने कहा, “हम अपने बिग बिलियन डे पर हर किसी के लिए मौके बनाएंगे. हम पूरे इकोसिस्टम को प्रभावित करने का प्रयास करेंगे. हमारा लक्ष्य ग्राहकों को शानदार अनुभव देना होगा और इसके तहत हमारे साथ कई लोग डायरेक्ट तौर पर जुड़ेंगे. ”

लास्ट माइल डिलिविरी के लिए फ्लिपकार्ट 50 हजार से अधिक किराना दुकानों को अपने साथ जोड़ेगा और इसके तहत किराना सामनाों की डिलिवरी के लिए हजारों लोगों की जरूरत होगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना में चली गई 50 करोड़ लोगों की नौकरियां, जुलाई और अगस्त में सबसे ज्यादा बेरोजगारी

Related Posts