जनरल मोटर्स के 50 हजार कर्मचारी हड़ताल पर, दस साल में पहली बार इस वजह से रुका प्रोडक्‍शन

यह जनरल मोटर्स में 2007 के बाद पहली हड़ताल है. GM का अपने वर्कर्स के साथ चार साल का कॉन्‍ट्रैक्‍ट बिना किसी समझौते के खत्‍म हो गया है.

अमेरिका में जनरल मोटर्स (GM) के करीब 50,000 श्रमिकों ने हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है. विदेशी मीडिया की रविवार की रिपोर्ट के मुताबिक, श्रमिकों के वेतन व शर्तों को लेकर यूनियन के साथ देश की सबसे बड़ी कार विनिर्माता कंपनी की बातचीत विफल होने के बाद हड़ताल पर जाने का फैसला लिया गया.

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, यूनाइटेड ऑटो वर्कर्स (UAW) के जीएम यूनियन वाइस प्रेसिडेंट टेरी डिट्टस ने डेट्रॉयट में संवाददाताओं को बताया, “हम उचित मजदूरी की मांग कर रहे हैं. हम वहन योग्य और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल की मांग कर रहे हैं.”

हड़ताल रविवार की मध्यरात्रि से शुरू हो गई है जोकि जनरल मोटर्स में 2007 के बाद पहली हड़ताल है. पिछली बार दो दिन की हड़ताल से कंपनी को 300 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ था. GM का अपने वर्कर्स के साथ चार साल का कॉन्‍ट्रैक्‍ट बिना किसी समझौते के खत्‍म हो गया है. अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ट्वीट कर दोनों पक्षों से मामला सुलझाने को कहा है.

GM ने सालों से अच्‍छा मुनाफा कमाया है. पिछले साल कंपनी को 11.8 बिलियन डॉलर का फायदा हुआ था. कर्मचारी यूनियन के अधिकारी कह रहे हैं कि अब वक्‍त आ गया है कि मुनाफे को कर्मचारियों के बीच बांटा जाए. हालांकि कंपनी ऑटो सेक्‍टर में मंदी की संभावना को देखते हुए कोई बड़ा फैसला करने से कतरा रही है.

ये भी पढ़ें

इस कपल ने सिर्फ चार दिन में कमाए 483.75 करोड़, जानिए कैसे?

उम्‍मीद से धीमी है भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था की रफ्तार, फिर भी चीन से बहुत आगे : IMF