लगातार पांचवे दिन फिसला सोना-चांदी का भाव, जानें कितना हुआ दाम

कोरोना महामारी (Corona epidemic) के चलते बने अनिश्चितता के माहौल में निवेश के सुरक्षित साधन के प्रति निवेशकों के बढ़ते रुझान के बीच ग्लोबल मार्केट में शुक्रवार को भी सोने की कीमतों में गिरावट जारी है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 11:46 am, Fri, 25 September 20

भारत में लगातार पांचवे दिन भी सोने और चांदी की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई. एमसीएक्स (Multi Commodity Exchange) पर अक्टूबर का सोना वायदा 0.27 प्रतिशत नीचे 49,771 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया. वहीं चांदी वायदा 0.5 फीसदी गिरकर 59,329 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई. इसके पिछले सत्र की बात करें तो सोने की कीमत में 300 रुपये और चांदी में 1060 रुपये की बढ़ोतरी दर्ज हुई थी. जबकि इस हफ्ते सोने का दाम दो हजार रुपये प्रति दस ग्राम और चांदी 9,000 रुपये प्रति किलोग्राम सस्ती हुई है.

कोरोना महामारी (Corona epidemic) के चलते बने अनिश्चितता के माहौल में निवेश के सुरक्षित साधन के प्रति निवेशकों के बढ़ते रुझान के बीच ग्लोबल मार्केट में शुक्रवार को भी सोने की कीमतों में गिरावट जारी है. निवेशक अमेरिकी बेरोजगार दावों के आंकड़ों से पहले सतर्क रहे हालांकि कीमती धातु के भाव पर मजबूत डॉलर का भी असर पड़ा.

ये भी पढ़ें- देश के 3.1 करोड़ लोग लेते हैं ड्रग्स, 10 लाख करोड़ का है कारोबार, पूरा मामला जानकर दंग रह जाएंगे आप

हाजिर सोना इस सप्ताह 0.2 फीसदी गिरकर 1,864.47 डॉलर प्रति औंस पर आ गया, इससे 4 फीसदी से अधिक का नुकसान हुआ है. वहीं चांदी 1.1 प्रतिशत की गिरावट के साथ 22.95 डॉलर प्रति औंस पर आ गई है. इसके अलावा प्लैटिनम 0.3 फीसद नीचे 846.72 डॉलर पर और पैलेडियम 2,226.44 डॉलर पर पहुंच गया.

ये भी पढ़ें- भारी गिरावट के साथ बाजार बंद, सेंसेक्स 1115 अंक टूटा, निवेशकों के डूबे 3.92 लाख करोड़ रुपये

सोना-चांदी का कारोबार विदेशी बाजार से चालित होता है, जहां डॉलर में कमजोरी रहने से महंगी धातुओं में तेजी का रुख बना रह सकता है. लेकिन कमोडिटी बाजार विशेषज्ञों का अनुमान है कि सोने और चांदी में सीमित दायरे में कारोबार होगा. बीते सप्ताह भी सोने और चांदी में उतार-चढ़ाव के बीच कारोबार हुआ.

इंडिया बुलियन एंड ज्वलेर्स एसोसिएशन के नेशनल सेक्रेटरी सुरेंद्र मेहता ने कहा, “गहनों की हाजिर खरीदारी कोरोना महामारी के कारण पहले से ही काफी कमजोर है और ऑनलाइन खरीदारी में भी नरमी आ जाएगी.”

ये भी पढ़ें- कोरोना में चली गई 50 करोड़ लोगों की नौकरियां, जुलाई और अगस्त में सबसे ज्यादा बेरोजगारी