लॉकडाउन में नौकरी गंवाने वालों के लिए राहत की खबर, सरकार ला रही ये नई स्कीम

जिन कामगारों की नौकरी लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान चली गई थी उन्हें सरकार की नई स्कीम के तहत बेरोजगारी राहत के तौर में अपने वेतन का 50 फीसदी अमाउंट क्लेम करने का मौका मिलेगा.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 12:17 pm, Fri, 16 October 20

कोरोना महामारी के चलते किए गए लॉकडाउन के दौरान कई लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी है. इस बीच लोगों ने काफी परेशानी उठाई है लेकिन ऐसे कर्मचारियों के लिए सरकार की तरफ से राहत भरी खबर सामने आई है. सरकार लॉकडाउन में नौकरी गंवाने वालों के लिए एक स्कीम लेकर आ रही है. इसका फायदा अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना के तहत ईएसआईसी (Employees State Insurance Corporation) के साथ रजिस्टर्ड कामगारों को मिलेगा.

जिन कामगारों की नौकरी लॉकडाउन के दौरान चली गई थी उन्हें बेरोजगारी राहत के तौर में अपने वेतन का 50 फीसदी अमाउंट क्लेम करने का मौका मिलेगा. कर्मचारी 3 महीनों के लिए इस स्कीम का लाभ उठा सकते हैं. यहां तक कि दोबारा नौकरी पाने वाले लोग भी इस स्कीम के तहत बेरोजगारी राहत क्लेम कर सकते हैं. इसके लिए ईएसआईसी द्वारा 44 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया जाना है.

ये भी पढ़ें- केंद्र सरकार जीएसटी सेस की क्षतिपूर्ति के तौर पर उधार लेगी 1.1 लाख करोड़ रुपये

लेबर मिनिस्ट्री के एक अधिकारी के मुताबिक फिलहाल इस योजना पर मुहर नहीं लगाई गई है लेकिन जल्द ही इसे एक्टिवेट किए जाने की उम्मीद है. मंत्रालय ने इस योजना के प्रचार-प्रसार की प्लानिंग शुरू कर दी है.

लोगों को कैसे मिलेगा फायदा

सूत्रों के मुताबिक कर्मचारियों को इस स्कीम के तहत बेरोजगारी राहत क्लेम करने के लिए फिजिकली डॉक्यूमेंट्स जमा करना होगा क्योंकि वो आधार से नहीं जुड़े हैं. जिन लोगों ने दिसंबर तक में अपनी नौकरी गंवाई है उन्हें भी इस स्कीम से राहत दी जाएगी. हालांकि राहत क्लेम करने वाले सभी लोगों का ईएसआईसी के साथ रजिस्टर्ड होना जरूरी है.

रोज भेजे जा रहे 400 क्लेम

मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि इस स्कीम के तहत लोगों को का काफी रुझान है और लगभग 400 क्लेम रोज आ रहे हैं. बता दें पिछले महीने ईएसआईसी और लेबर मिनिस्ट्री ने बेरोजगारी क्लेम की लिमिट बढ़ाने का फैसला किया था. जिसके बाद बीमित कामगारों को दी जाने वाली बेरोजगारी राहत को 25 फीसदी से बढ़ाकर 50 फीसदी तक कर दिया गया.

बता दें बेरोजगारी राहत सुविधा का फायदा पहले नियोक्ता के जरिए ही उठाया जा सकता था लेकिन अब कामगार खुद ही ईएसआईसी के संबंधित ऑफिस जाकर इसके लिए क्लेम कर है. ईएसआईसी की तरफ से लगभग 3.4 करोड़ परिवारों को मेडिकल कवर दिया जाता है. वहीं करीब 13.5 करोड़ लाभार्थी कैश बेनिफिट लेते हैं.सरकार ने ईएसआईसी की सेवाओं को सोशल सिक्योरिटी कोड के तहत देश के 740 जिलों में लागू करने का फैसला किया है.

ये भी पढ़ें- अटल पेंशन योजना ने भरी सरकार की झोली, 94 लाख से ज्यादा कर्मचारियों को भी हुआ फायदा