27 वर्षीय युवक को कैसे मिला रतन टाटा के साथ काम करने का मौका, फेसबुक पोस्ट में हुआ खुलासा

शांतनु बताते हैं कि रतन टाटा से उनकी पहली मुलाकात 2014 में हुई थी.
How 27 Year Old Shantanu Naidu Got The Dream Job With Ratan Tata, 27 वर्षीय युवक को कैसे मिला रतन टाटा के साथ काम करने का मौका, फेसबुक पोस्ट में हुआ खुलासा

टाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा के साथ काम करना किसी ड्रीम जॉब से कम नहीं, लेकिन ये मौका हर किसी को नहीं मिलता. जिनको मिला है उनमें से एक हैं शांतनु नायडू. 27 साल के शांतनु को रतन टाटा के साथ काम करने का मौका कैसे मिला, ये उन्होंने फेसबुक पोस्ट के जरिए बताया.

फेसबुक पेज ‘ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे’ पर तस्वीर शेयर करते हुए शांतनु ने बताया कि कैसे उन्हें ये जॉब मिली. उन्होंने लिखा कि 2014 में रतन टाटा से पहली बार मुलाकात हुई. शांतनु ने इस मुलाकात के दौरान रतन टाटा को उन घटनाओं के बारे में बताया जिन्होंने उनकी जिंदगी में बदलाव लाया.

How 27 Year Old Shantanu Naidu Got The Dream Job With Ratan Tata, 27 वर्षीय युवक को कैसे मिला रतन टाटा के साथ काम करने का मौका, फेसबुक पोस्ट में हुआ खुलासा

शांतनु ने लिखा कि पांच साल पहले उन्होंने एक्सीडेंट में एक आवारा कुत्ते को मरते हुए देखा. इसके बाद उन्होंने आवारा कुत्तों को सड़क दुर्घटना से बचाने की योजना पर विचार शुरू कर दिया. उनके दिमाग में आइडिया आया कि कुत्तों के लिए एक चमकदार कॉलर बनाया जाए जिसे ड्राइवर दूर से देख सकें.

“I graduated in 2014 and started working at Tata group. Life was going pretty smooth, until one evening, while on my way…

Humans of Bombay यांनी वर पोस्ट केले बुधवार, २० नोव्हेंबर, २०१९

शांतनु बताते हैं कि ‘मेरा यह आइडिया बहुत तेजी से फैला. उसके बाद मेरे पिता ने इस बारे में रतन टाटा को चिट्ठी लिखने के लिए कहा क्योंकि वे कुत्तों से प्यार करते हैं.’ शांतनु कहते हैं कि पहले तो हिचकिचाहट हुई लेकिन फिर उन्होंने चिट्ठी लिखी, जिसका जवाब दो महीने बाद टाटा समूह की तरफ से आया.

उस जवाब में टाटा समूह ने शांतनु को मीटिंग के लिए बुलाया गया था. शांतनु कहते हैं ‘मैं इस पर विश्वास नहीं कर पा रहा था.’ इसके बाद शांतनु मुंबई में रतन टाटा से उनके ऑफिस में मिले. शांतनु लिखते हैं ‘रतन टाटा ने मुझसे कहा कि आप जो काम करते हैं मैं उससे बहुत प्रभावित हूं.’

How 27 Year Old Shantanu Naidu Got The Dream Job With Ratan Tata, 27 वर्षीय युवक को कैसे मिला रतन टाटा के साथ काम करने का मौका, फेसबुक पोस्ट में हुआ खुलासा

इस मुलाकात के बाद रतन टाटा शांतनु को अपने घर ले गए और अपने कुत्तों से मिलवाया, उन्हें काम के लिए फंड मुहैया कराया. शांतनु अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए छुट्टी ली और वादा किया कि वह लौटेंगे और टाटा ट्रस्ट के लिए काम करेंगे.

शांतनु बताते हैं कि मैं भारत वापस आया तो उन्होंने मुझे फोन करके कहा कि मुझे ऑफिस में बहुत काम होता है, क्या आप मेरे सहायक बनेंगे? शांतनु कहते हैं कि मुझे समझ में नहीं आया मैं क्या प्रतिक्रिया दूं. मैंने गहरी सांस लेकर ‘हां’ कह दिया.

ये भी पढ़ें:

‘भारत की बजाय हम तैरकर इटली जाना पसंद करेंगे’, अवैध घुसपैठ पर बोले बांग्लादेशी राजदूत
NRC से किस तरह अलग है NPR और क्यों हो रहा है इस पर विवाद?

Related Posts