वर्ल्‍ड इकॉनमिक फोरम इंडेक्‍स में भारत 10 रैंक नीचे लुढ़का, BRICS देशों में सबसे पीछे

WEF की ओवरऑल रैकिंग देखें तो भारत के बाद श्रीलंका 84वें स्‍थान पर, बांग्‍लादेश 105वें, नेपाल 108वें और पाकिस्तान 110वें पायदान पर है.
वर्ल्‍ड इकॉनमिक फोरम, वर्ल्‍ड इकॉनमिक फोरम इंडेक्‍स में भारत 10 रैंक नीचे लुढ़का, BRICS देशों में सबसे पीछे

ग्‍लोबल कॉम्‍प्‍टेटिवनेस इंडेक्‍स में भारत 10 पायदान लुढ़क गया है. अब भारत 68वें नंबर पर है जबकि सिंगापुर ने अमेरिका को टॉप से हटा दिया है. अधिकतर देशों की रैंकिंग के पीछे उनकी इकॉनमी में हुए सुधार को वजह बताया गया है. इस इंडेक्‍स को वर्ल्‍ड इकॉनमिक फोरम (WEF) तैयार करता है.

पिछले साल भारत इस इंडेक्‍स में 58वें स्‍थान पर था. BRICS देशों की बात करें तो इस इंडेक्‍स के मुताबिक, भारत और ब्राजील सबसे खराब परफॉर्म करने वाले देशों में से हैं.

ताजा इंडेक्‍स में WEF ने कहा है कि भारत की रैंकिंग मैक्रोइकॉनमिक स्‍टेबिलिटी और मार्केट साइज में अच्‍छी है. बैंकिंग सिस्‍टम की कमजोरी को रिपोर्ट में हाईलाइट किया गया है. कॉर्पोरेट गवर्नेंस में भारत 15वें पायदान पर है. WEF स्‍टडी में, शेयरहोल्‍डर गवर्नेंस में भारत की रैंक पूरी दुनिया में दूसरे नंबर पर है. रिन्‍युएबल एनर्जी में भी भारत दूसरे नंबर पर है.

वर्ल्‍ड इकॉनमिक फोरम इंडेक्‍स में 141 देशों की रैंकिंग

इनोवेशन में भी भारत कई उभरती अर्थव्‍यवस्थाओं से आगे और विकस‍ित अर्थव्‍यवस्‍थाओं के समकक्ष है. वर्ल्‍ड इकॉनमिक फोरम रिपोर्ट में भारत के भीतर खराब स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं, लो लाइन एक्‍सपेक्‍टेंसी और लिमिटेड इंफॉर्मेशन, कम्‍युनिकेशंस एंड टेक्‍नोलॉजी एडॉप्‍शन को चिंता की बात बताया गया है.

वर्ल्‍ड इकॉनमिक फोरम के मुताबिक, भारत को अपना स्किल बेस बढ़ाने की जरूरत है. ओवरऑल रैकिंग देखें तो भारत के बाद श्रीलंका 84वें स्‍थान पर, बांग्‍लादेश 105वें, नेपाल 108वें और पाकिस्तान 110वें पायदान पर है.

1970 में लॉन्‍च किए गए ग्‍लोबल कॉम्‍प्‍टेटिवनेस इंडेक्‍स के जरिए 141 देशों को 103 पैमानों पर परखा जाता है. सिंगापुर ने 2019 में दुनिया की सबसे कॉम्‍प्‍टेटिव इकॉनमी का तमगा हासिल किया है. अमेरिका अब दूसरे नंबर पर है और हॉन्‍गकॉन्‍ग तीसरे. नीरदलैंड्स को चौथा स्‍थान मिला है जबकि स्विट्जरलैंड पांचवें पायदान पर है.

ये भी पढ़ें

सरकारी कर्मचारियों को मोदी सरकार का दिवाली गिफ्ट, DA में 5 फीसदी का इजाफा

2000 रुपए का नोट बंद होने की खबर वायरल होने के बाद RBI ने किया बड़ा खुलासा

Related Posts