Forex Reserve: भारत ने बनाया नया रिकॉर्ड, 551 अरब डॉलर पहुंचा देश का विदेशी मुद्रा भंडार

भारत के फॉरेक्स रिजर्व ( Forex Reserve ) में विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए), स्वर्ण भंडार, विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ देश की आरक्षित स्थिति (रिजर्व पॉजिशन) शामिल होती है.

देश के फॉरेक्स रिजर्व में बड़ी वृद्धि दर्ज की गई है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़ों के मुताबिक, नौ अक्टूबर को समाप्त में यह 5.867 अरब डॉलर के उछाल के साथ 551.505 अरब डॉलर पर पहुंच गया है. भारत के फॉरेक्स रिजर्व में विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए), स्वर्ण भंडार, विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ देश की आरक्षित स्थिति (रिजर्व पॉजिशन) शामिल होती है.

ये भी पढें: त्योहारी सीजन में इस प्राइवेट बैंक ने ग्राहकों को दिया सस्ते होम लोन का तोहफा, इतनी होगी बचत

विदेशी मुद्रा संपत्ति (फॉरेन करेंसी असेट्स) में भारी उछाल के कारण फॉरेक्स रिजर्व में बढ़ोतरी हुई है. नौ अक्टूबर को समाप्त में फॉरेन करेंसी असेट्स 5.737 अरब डॉलर बढ़कर 508.783 अरब डॉलर पर पहुंच गया.इसी तरह, देश के सोने के भंडार में भी वृद्धि हुई। यह 11.3 करोड़ डॉलर बढ़कर 36.598 अरब डॉलर तक पहुंच गया है.

ये भी पढें: आज से दोबारा शुरू हो रही है देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस, यात्रा से पहले जान लें नए नियम

इसके अलावा आईएमएफ में देश का एसडीआर 40 लाख डॉलर बढ़कर 1.480 अरब डॉलर हो गया है। वहीं आईएमएफ में देश का रिजर्व पोजिशन भी 1.3 करोड़ डॉलर बढ़कर 4.644 अरब डॉलर पर पहुंच गया है.  बीते 6 महीनों रके आकड़ों पर नजर डाले तो देश में विदेशी निवेश बढ़ा है. जिसके चलते विदेशी मुद्रा भंडार में रिकॉर्ड तेजी दर्ज की जा रही है. यहां तक की कोरोना काल काल के दौरान भी भारत को इस मोर्चे पर कामयाबी मिली है.

ये भी पढें:AC Import: टीवी के बाद अब एसी इंपोर्ट पर भी बैन, मोदी सरकार का बड़ा फैसला

 

Related Posts