100 रुपये कमाने पर 98.14 खर्च, रेलवे की हालत पिछले 10 साल में सबसे खराब : CAG

भारतीय रेल का Operating Ratio 2017-18 में 98.44 फीसदी था. मतलब रेलवे ने प्रत्येक सौ रुपया कमाने पर 98.44 रुपये खर्च किए.

देश की परिवहन व्यवस्था की रीढ़ भारतीय रेल को 100 रुपये की कमाई करने के लिए 98.44 रुपये खर्च करना पड़ा. यह आंकड़ा 2017-18 का है, जो बीते 10 साल में रेलवे की सबसे खराब स्थिति को बयान करता है. संसद में सोमवार को पेश रिपोर्ट में भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) ने बताया कि भारतीय रेल (Indian Railways) का परिचालन अनुपात (Operating Ratio) 2017-18 में 98.44 फीसदी था जोकि बीते 10 में सबसे खराब था.

98.44 फीसदी परिचालन का अर्थ यह है कि रेलवे ने प्रत्येक सौ रुपया कमाने पर 98.44 रुपये खर्च किए. Operating Ratio खर्च और राजस्व का अनुपात होता है.

CAG ने कहा कि रेलवे ने अगर एनटीपीसी और इरकॉन से अग्रिम नहीं प्राप्त किया होता तो उसे 1,665.61 करोड़ रुपये के आधिक्य के बदले 5,676.29 करोड़ रुपये का घाटा होता. लेखापरीक्षक ने कहा, “इस अग्रिम को निकालने पर परिचालन अनुपात 102.66 फीसदी होगा.”

Indian Railways यात्री सेवा और अन्य कोचिंग सर्विस की परिचालन लागत को पूरा करने में असमर्थ है. मालभाड़े से प्राप्त लाभ का करीब 95 फीसदी यात्री सेवा व अन्य कोचिंग सर्विस को पूरा करने में खर्च हो जाता है.

यात्रियों को दी जाने वाली रियायत के प्रभावों की समीक्षा से पता चला है कि रियायत पर खर्च होने वाले धन का 89.7 फीसदी वरिष्ठ नागरिकों और विशेषाधिकार प्राप्त पास/विशेषाधिकार प्राप्त टिकट ऑर्डर धारियों पर खर्च हो जाता है.

CAG ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि वरिष्ठ नागरिकों द्वारा यात्रा में रियायत का परित्याग करने की योजना यानी ‘गिव अप’ स्कीम को जो प्रतिक्रिया मिली, वह उत्साहवर्धक नहीं है. रिपोर्ट के अनुसार, निवल राजस्व आधिक्य 2016-17 में 4,913 करोड़ रुपये था जो 2017-18 में 66.10 फीसदी घटकर 1,665.61 करोड़ रुपये रह गया. (IANS)

ये भी पढ़ें

ट्रेन में चाय, नाश्‍ता और खाना महंगा, देखें रेलवे की नई रेट लिस्‍ट

कोहरे की वजह से अगर ट्रेन हुईं लेट तो नहीं करना पड़ेगा आपको इंतजार