Reliance Industries के हाथों क्यों बिका बिग बाजार, खुद किशोर बियानी ने किया बड़ा खुलासा

रिलायंस ( Reliance ) और फ्युचर ग्रुप ( Future Group ) के बीच हो रहे इस सौदे में नया मोड़ तब आया जब दुनिया की दिग्गज कंपनी अमेजॉन ने इस सौदे पर सवाल उठा दिया. अमेजॉन ने कहा है कि फ्यूचर ग्रुप ने रिलायंस के साथ किए सौदे में एक नॉन-कंप्लीट कॉन्ट्रैक्ट का उल्लंघन किया है

फ्युचर ग्रुप ( Future Group ) के मालिक किशोर बियानी के फ्युचर ग्रुप को बेचने पर बड़ा बयान दिया है. दरअसल 29 अगस्त को रिलायंस इंडस्ट्रीज ( Reliance Industries )  ने फ्यूचर ग्रुप के रिटेल, होलसेल लॉजिस्टिक्स और वेयरहाउस कारोबार को खरीदने की घोषणा की थी. यह डील करीब 24700 करोड़ में तय हुआ है. अब कंपनी के मुखिया किशोर बियानी ने इस डील से पर्दा उठाते हुए कहा है कि कोरोना की वजह से पहले 4 महीनों में कंपनी को 7000 करोड़ का नुकसान हुआ है. जिसके चलते उन्हें कंपनी बेचने का फैसला लेना पड़ा. किशोर बियानी ने कहा कि कंपनी को नुकसान हुआ था, उससे सरवाइव करने का कोई रास्ता नहीं था. यहां तक कि स्टोर का किराया और कर्ज पर ब्याज जारी रहना भी बड़ी समस्या थी. जिसके चलते अंत में कंपनी को बेचने का फैसला करना पड़ा.

ये भी पढ़ें: GDP पर बांग्लादेश से तुलना, कमजोर विदेशी निवेश और फिसड्डी ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग से कैसे होगा कायापलट

सौदे के लिए मंजूरी का इंतजार

रिलायंस इंडस्ट्री और फ्युचर ग्रुप के बीच डील हो चुकी है. हालांकि इसपर अंतिम मुहर लगने के लिए रेगुलेटरी की मंजूरी का इंतजार है. इस सौदे के तहत ग्रॉसरी से लेकर कॉस्मेटिक और अपैरल की बिक्री करने वाला बिगबाजार रिलायंस इंडस्ट्रीज को मिल जाएगा. इसके अलावा फ्यूचर लाइफस्टाइल फैशंस के रिटेल स्टोर फैशन भी रिलायंस को मिल जाएंगे। फ्यूचर ग्रुप का फाइनेंशियल और इंश्योरेंस कारोबार इस डील का हिस्सा नहीं हैं.

ये भी पढ़ें: चीन का विरोध: दिवाली पर देश के 7 करोड़ कारोबारियों का बड़ा फैसला, नहीं बेचेंगे चीनी सामान

अमेजॉन ने भी उठाए सवाल

रिलायंस और फ्युचर ग्रुप के बीच हो रहे इस सौदे में नया मोड़ तब आया जब दुनिया की दिग्गज कंपनी अमेजन ने इस सौदे पर सवाल उठा दिया. अमेजॉन ने कहा है कि फ्यूचर ग्रुप ने रिलायंस के साथ किए सौदे में एक नॉन-कंप्लीट कॉन्ट्रैक्ट का उल्लंघन किया है और इस संबंध में कंपनी ने बिग बाजार को लीगल नोटिल भी भेज दिया है. अमेजन का कहना है कि अगस्त 2019 में कंपनी ने करीब 1500 करोड़ रुपए में फ्यूचर कूपंस में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी. फ्यूचर रिटेल के देशभर में बिग बाजार, एफबीबी, फूडहॉल और ईजीडे क्लब ब्रांड्स के तहत 1,000 से भी अधिक स्टोर्स हैं,

अब आगे क्या

रिलायंस और फ्युचर ग्रुप के बीच डील फाइनल होने औऱ उसके बाद बीच में अमेजॉन के आ जाने से यह कॉरर्पोरेट डील एक बार फिर से सुर्खियों में आ चुकी है. इसी बीच फ्युचर ग्रुप के मुखिया किशोर बियानी का यह कबूल करना की कारोना के कारण मजबूरन उन्हें कंपनी को बेचना पड़ा. हालांकि कि बियानी ने अमेजन के आरोपों पर कुछ नहीं कहा है. आने वाले समय में यह डील किस ओर जाता है और अमेजॉन की इसमें क्या भूमिका रहेगी ये देखना होगा.

Related Posts