15 दिन बाद बदल जाएंगे LPG सिलेंडर होम डिलीवरी के नियम, जानें यहां सबकुछ

नए नियमों के तहत, एलपीजी सिलेंडर (LPG cylinder) बुक करने वाले उपभोक्ताओं को अब होम डिलीवरी के लिए वन टाइम पासवर्ड (OTP) की जरूरत होगी.

अगले महीने से लिक्विफाइड पेट्रोलियम गैस (LPG) सिलेंडर की होम डिलीवरी सिस्टम में एक बड़ा बदलाव होने वाला है. नए नियमों के तहत, एलपीजी सिलेंडर (LPG cylinder) बुक करने वाले उपभोक्ताओं को अब होम डिलीवरी के लिए वन टाइम पासवर्ड (OTP) की जरूरत होगी. बिना डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड (Delivery Authentication Code- DAC) के ग्राहकों को LPG सिलेंडर नहीं डिलीवर किए जाएंगे. नया सिस्टम चोरी रोकने में मदद करेगा और सही ग्राहक की पहचान भी करेगा. आइए जानते हैं नए OTP बेस्ड LPG सिलेंडर डिलीवरी सिस्टम के बारे में सबकुछ.

100 स्मार्ट शहरों में लागू किया जाएगा DAC
तेल कंपनियां एक नई प्रणाली लागू कर रही हैं जिसे डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड (डीएसी) के रूप में जाना जाएगा. सिस्टम चोरी रोकने में मदद करेगा और सही ग्राहक की पहचान भी करेगा. शुरुआत में डिलिवरी ऑथेंटिकेशन कोड (DAC) को 100 स्मार्ट शहरों में लागू किया जाएगा. पायलट प्रोजेक्ट राजस्थान के जयपुर शहर में शुरू हुआ है.

Amazon और Flipkart समेत ई-कॉमर्स कंपनियों को नोटिस, सरकार ने 15 दिन में मांगा जवाब

कोड के बिना नहीं होगी LPG सिलेंडर की डिलीवरी
एलपीजी सिलेंडर की चोरी को रोकने के लिए जब तक उपभोक्ता के पंजीकृत उपभोक्ता नंबर पर डिलीवरी व्यक्ति को एक कोड नहीं दिखाया जाएगा तब तक सिलेंडर की डिलीवरी नहीं होगी. कोड उपभोक्ता के मोबाइल नंबर में भेजा जाएगा. एलपीजी सिलेंडर के उपभोक्ताओं को अपना मोबाइल नंबर अपडेट करवाना होगा. अगर उन्होंने गैस एजेंसी में पंजीकृत मोबाइल नंबर को बदल दिया है तो इससे एलपीजी सिलेंडर की डिलीवरी रुक जाएगी.

आज से दोबारा शुरू हो रही है देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस, यात्रा से पहले जान लें नए नियम

गैस एजेंसी के साथ एड्रेस भी अपडेट कराना है जरूरी
उपभोक्ताओं को अपने घर के पते को भी अपडेट कराना होगा. अगर गैस एजेंसी को दिया पता, उस जगह से अलग है जिसमें वे निवास कर रहे हैं तो इसे अपडेट करवा लें. हालांकि, कमर्शियल एलपीजी सिलेंडर के लिए डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड (डीएसी) लागू नहीं होगा. वुड मैकेंजी ने कहा है कि साल 2030 तक भारत दुनिया के सबसे बड़े एलपीसी सिलेंडर के मामले में चीन केा पीछे छोड़ देगा. पर्यावरण और स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को देखते हुए सरकार ने निम्न आय वर्ग के परिवारों को बायोमास से एलपीजी पर स्विच करने की लागत का सामना करने में मदद करने के लिए योजनाओं को लागू किया है.

Related Posts