Arvind Krishna set to lead IBM, IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी
Arvind Krishna set to lead IBM, IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी

IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी

मौजूदा CEO वर्जीनिया रोमेटी ने कहा 'कृष्णा बेहतरीन टेक्नॉलजिस्ट हैं जिन्होंने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, क्लाउड, क्वांटम कंप्यूटिंग और ब्लॉक चेन जैसी महत्वपूर्ण टेक्नॉलजी डेवेलप करने में खास भूमिका निभाई है.
Arvind Krishna set to lead IBM, IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी

भारतीय मूल के अरविंद कृष्णा (Arvind Krishna) अमेरिका की कंपनी इंटरनेशनल बिजनेस मशीन्स (IBM) के नए CEO होंगे. करीब 8.93 लाख करोड़ रुपए के मार्केट कैप वाली कंपनी IBM में 6 अप्रैल से वे CEO का पदभार संभालेंगे. 57 वर्षीय कृष्णा वर्जीनिया रोमेटी की जगह लेंगे, फिलहाल वे क्लाउड और कॉग्निटिव सॉफ्टवेयर के लिए सीनियर वाइस प्रेसिडेंट के पद पर हैं. अरविंद कृष्णा कौन हैं और कैसे इस ऊंचाई तक पहुंचे, आइए जानते हैं.

IIT कानपुर से निकले, IBM पहुंचे

अरविंद कृष्णा ने IIT कानपुर से अंडर ग्रेजुएट डिग्री ली. इसके बाद उच्च शिक्षा के लिए देश से बाहर निकले और यूनिवर्सिटी ऑफ इलनॉइज, अर्बाना शैंपेन से पीएचडी की डिग्री ली. उन्होंने 1990 में IBM जॉइन किया और डेटा संबंधित बिजनेस का नेतृत्व किया

फिलहाल अरविंद कृष्णा क्लाउड और कॉग्निटिव सॉफ्टवेयर के वाइस प्रेसिडेंट हैं और IBM की बिजनेस यूनिट का नेतृत्व करते हैं. इसके पहले वे IBM के सूचना प्रबंधन विभाग में जनरल मैनेजर और IBM सॉफ्टवेयर के वाइस प्रेसिडेंट भी रह चुके हैं.

अरविंद कृष्णा 62 साल की वर्जीनिया रोमेटी की जगह लेंगे जो कि इस वित्तीय वर्ष के अंत तक IBM की कार्यकारी अध्यक्ष बनी रहेंगी. वर्जीनिया ने अपनी जिंदगी के 40 साल इस कंपनी को दिए हैं और इसके बाद वह रिटायर हो जाएंगी.

वर्जीनिया रोमेटी ने कहा ‘कृष्णा बेहतरीन टेक्नॉलजिस्ट हैं जिन्होंने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, क्लाउड, क्वांटम कंप्यूटिंग और ब्लॉक चेन जैसी महत्वपूर्ण टेक्नॉलजी डेवेलप करने में खास भूमिका निभाई है. वह एक शानदार ऑपरेशनल लीडर भी हैं जो कल के बिजनेस का निर्माण करते हुए आज जीतने में सक्षम हैं.’

IBM की तरफ से जारी प्रेस रिलीज में अरविंद कृष्णा ने कहा ‘मैं रोमांचित हूं कि IBM में मुझे अगला CEO चुना गया है. गिन्नी और बोर्ड ने मुझ पर जो भरोसा जताया है उसके लिए शुक्रगुजार हूं. मैं IBM और रेड हैट के लोगों के साथ इस तेजी से बदलती IT इंडस्ट्री में काम करने को उत्सुक हूं.’

बता दें कि IBM कंपनी की स्थापना 16 जून 1911 को की गई थी और कंप्यूटर बनाने में अग्रणी रही है. यह एक मात्र ऐसी कंपनी है जिसने अभी तक तीन नोबेल, चार टूरिंग अवॉर्ड, पांच नेशनल टेक्नॉलजी मेडल और पांच नेशनल साइंस मेडल जीते हैं. IBM ने 1981 में पर्सनल कंप्यूटर बेचने शुरू किये जिसने जल्द ही इसे दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित कंपनियों में से एक बना दिया.

ये भी पढ़ेंः

CoronaVirus से निपटने के लिए बिल गेट्स, जैक मा और TikTok ने दिए 2000 करोड़ रुपए

रूस में अरबपति बाप का बेटा रहता है किराए के फ्लैट में और मेट्रो से करता है सफर, जानिए क्यों

Arvind Krishna set to lead IBM, IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी
Arvind Krishna set to lead IBM, IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी

Related Posts

Arvind Krishna set to lead IBM, IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी
Arvind Krishna set to lead IBM, IIT कानपुर से पढ़े हैं IBM के अगले CEO अरविंद कृष्णा, 6 अप्रैल से संभालेंगे कुर्सी