मार्च में 2.5%, अप्रैल में 0.2% और अब Moddy’s ने भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान 0% लगाया

मूडीज (Moody's) ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते अर्थव्यवस्था की हालत खराब हो रही है. भारत को लॉकडाउन (India Lockdown) के चलते जीडीपी में बड़ी गिरावट झेलनी पड़ेगी.
Moody's report, मार्च में 2.5%, अप्रैल में 0.2%  और अब Moddy’s ने भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान 0% लगाया

मूडीज (Moody’s) इनवेस्टर्स सर्विस ने शुक्रवार को बताया कि फिस्कल ईयर 2020-2021 में भारत की GDP ग्रोथ ज़ीरो फीसदी रह सकती है. हालांकि मूडीज ने अपनी रिपोर्ट में भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर बड़ी उम्मीद जताते हुए कहा कि 2021-2022 में भारतीय अर्थव्यवस्था की जीडीपी ग्रोथ 6.6 फीसदी तक रह सकती है.

मूडीज (Moody’s) ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते अर्थव्यवस्था की हालत खराब हो रही है. भारत को लॉकडाउन (India Lockdown) के चलते जीडीपी में बड़ी गिरावट झेलनी पड़ेगी. वित्तवर्ष 2020-21 में भारत की ग्रोथ जीरो पर ठहर सकती है, लेकिन 2022 में तेजी से वापसी करेगी.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

अभी कुछ दिन पहले मूडीज (Moody’s) ने कैलेंडर वर्ष 2020 के लिए भारत के वृद्धि अनुमान को घटाकर 0.2 प्रतिशत कर दिया था, जबकि मार्च में उसने इसके 2.5 प्रतिशत रहने की उम्मीद जताई थी.

मूडीज ने नवंबर 2019 में इंडिया की रेटिंग डाउनग्रेड करते हुए स्टेबल से नेगेटिव कर दिया था. कमजोर आर्थिक ग्रोथ की वजह से इंडिया की रेटिंग डाउनग्रेड हुई थी. मूडीज ने उस वक्त “Baa2” रेटिंग दी थी.

“Baa2” रेटिंग में से a2 इकोनॉमिक स्ट्रेंथ के लिए है. जबकि baa3 इंस्टीट्यूशनल और गवर्नेंस स्ट्रेंथ के लिए माना जाता है. b1 के मायने फिस्कल स्ट्रेंथ और ba का मतलब सस्पेक्टबिलिटी से जोखिम से है.

Related Posts