• Home  »  बिजनेस   »   ‘बुरे आर्थिक हालात के बीच, सरकार के लिए खर्च करना जरूरी’

‘बुरे आर्थिक हालात के बीच, सरकार के लिए खर्च करना जरूरी’

पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा है कि कोरोनोवायरस महामारी और उसके चलते राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान उठाना पड़ा है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 6:50 pm, Sun, 18 October 20

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को मजबूत बताते हुए पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा है कि कोरोनो वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) और उसके चलते राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. उन्होंने कहा कि सार्वजनिक व्यय (Public Spending) की इस वक्त सबसे ज्यादा जरूरत है, वह भी केंद्र से, क्योंकि राज्यों के वित्तीय हालात ठीक नहीं हैं.

उद्योग निकाय के नव नियुक्त अध्यक्ष का कहना है कि लॉकडाउन और अनलॉक के मामले में सरकार की नीतियां बिल्कुल साफ होनी चाहिए. उन्होंने कहा क अप्रैल-जून तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था में 23.9 प्रतिशत की गिरावट एक बहुत बड़ा नुकसान थी. लेकिन सितंबर में जो सुधार के संकेत मिले हैं, खास कर जीएसटी कलेक्शन, गाड़ियों की बिक्री और निर्यात में, उससे अर्थव्यवस्था में आशावादी दृष्टिकोण देखने को मिला.

सिर्फ 15 मिनट में भर सकते हैं अपना इनकम टैक्स रिटर्न, जानें कैसे?

सितंबर के अंत तक नौकरी के नुकसान में कमी हुई, डिजिटल भुगतान में और गाड़ियों की बिक्री में वृद्धि देखने को मिली. अग्रवाल ने आईएएनएस को बताया कि भारतीय अर्थव्यवस्था में काफी लचीलापन है. अग्रवाल ने कहा, मुद्दा यह है कि लचीलापन तो है, लेकिन नुकसान बहुत बड़ा है. जो खाई पैदा हुई है उसे भरने में काफी वक्त लगेगा.

फेस्टिव सीजन में SBI लाया खुशियों की सौगात, जीरो प्रोसेसिंग फीस पर मिलेगी ये सुविधाएं

सरकार द्वारा पिछले साल घोषित नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन (NIP) की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि अब इसके माध्यम से निवेश करने का समय आ गया है. अग्रवाल ने कहा, यह (NIP) एक ऐसी चीज है, जिसे अब गंभीरता से लेने की जरूरत है और खर्च को बढ़ाना होगा. उन्होंने अपील की कि केंद्र सरकार निवेश को बढ़ाए, क्योंकि निजी क्षेत्र अभी ऐसा नहीं करेगा. अग्रवाल ने कहा कि इससे राजकोषीय घाटे पर असर पड़ सकता है, लेकिन यह समय वित्तीय जवाबदेही का नहीं है, बल्कि खर्च करने का है.