किसान रेल से फलों और सब्जियों की ढुलाई पर रेलवे देगा 50 प्रतिशत की सब्सिडी

किसान रेल (Kisan Rail) से अधिसूचित फलों और सब्जियों की ढुलाई पर ट्रांसपोर्ट शुल्क में 50 प्रतिशत सब्सिडी (Subsidy) मिलेगी. रेलवे ने मंगलवार को इस सब्सिडी की घोषणा की.

file photo

केंद्र सरकार ने मंगलवार को किसान रेल (Kisan Rail) से अधिसूचित फलों और सब्जियों की ढुलाई पर ट्रांसपोर्ट कॉस्ट (Transport Cost) में 50 प्रतिशत सब्सिडी देने की घोषणा कर दी. इस सब्सिडी का लाभ किसान, फूड प्रोसेसर, कोऑपरेटिव सोसाइटी, खुदरा विक्रेता, राज्य और सहकारी मार्केटिंग एजेंसियां 11 दिसंबर तक उठा सकती है.

सब्सिडी के लिए अधिसूचित सामग्रियों में आम, केला, अमरूद, पपीता, नींबू संतरा, अन्नास, अनार और कटहल शामिल हैं. इसके अलावा सब्जियों में प्याज, आलू, टमाटर, फ्रेंच बीन्स, बैंगन, शिमला मिर्च, गाजर, फूलगोभी और भिंडी भी सब्सिडी के लिए अधिसूचित सामग्रियों में शामिल है.

यह भी पढ़ें : 20 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच रेलवे चलाएगा 196 जोड़ी फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन

रेलवे ने मंगलवार को इसकी घोषणा की. बुधवार से चौथी किसान रेल नागपुर से रवाना होगी. ये सब्सिडी ‘ऑपरेशन ग्रीन- टॉप टू टोटल’ योजना के तहत दी जाएगी. खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत छह महीने के लिए ऑपरेशन ग्रीन योजना का विस्तार कर टमाटर, प्याज और आलू से लेकर फल और सब्जियों को इस दायरे में लाने की घोषणा की.

मंत्रालय ने सब्सिडी स्कीम को 11 दिसंबर तक बढ़ा दिया है. इस प्रोजेक्ट को बढ़ाने के पीछे कोरोना के चलते लगे लॉकडाउन में किसानों को हुए नुकसान की भरपाई करना है. रेल मंत्रालय ने कहा कि इस योजना के लिए खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय 10 करोड़ रुपए देगा. ये राशि दक्षिण मध्य रेलवे जोन के पास जमा कराई जाएगी. बता दें कि केंद्र सरकार ने वर्तमान वित्त वर्ष के बजट में विशेष पार्सल ट्रेन ‘किसान रेल’ चलाने की घोषणा की थी.

रेलवे ने राज्य सरकारों के अनुरोध पर और अधिक संख्या में किसान रेलों के संचालन की घोषणा की है. सब्जियों और फलों की ढुलाई ट्रकों की अपेक्षा ट्रेन से ज्यादा सस्ती पड़ती है. इस सब्सिडी की घोषणा के बाद ट्रेन से फलों और सब्जियों का ट्रांसपोर्ट बढ़ेगा.

यह भी पढ़ें : 130 किमी/घंटे की रफ्तार वाली ट्रेनों में स्लीपर की जगह अब रहेंगे AC कोच: रेलवे

Related Posts