कर्ज चुकाने के लिए Zee की 16.5% हिस्सेदारी बेचेंगे सुभाष चंद्रा, रह जाएंगे 5 फीसदी शेयर

सुभाष चंद्रा को म्यूचुअल फंड्स और रूस के सरकारी सपोर्ट वाले बैंक सहित कई लेंडर्स को 7000 करोड़ से ज्यादा की रकम चुकानी है.

जी एंटरटेनमेंट इंटरप्राइजेज (ZEE) के प्रमोटर्स मीडिया कंपनी में 16.5 फीसदी हिस्सा बेचने की संभावना देख रहे हैं. प्रमोटर्स के जितने शेयर बिकने की बात तय हुई है उसमें से 15.72 फीसदी शेयर गुरुवार को ब्लॉक डील में बिकेंगे. कंपनी ने बताया है कि सेल के बाद ZEE के प्रमोटर्स का हिस्सा 5 फीसदी रह जाएगा.

जो तीन प्रमोटर कंपनियां हैं उनमें से EMVL 7.7 करोड़, Cyquator 6.1 करोड़ और एस्सेल कारपोरेट 1.1 करोड़ के शेयर बेचेंगी, ये कंपनी के कुल 15.72 फीसदी इक्विटी बेस के बराबर हैं. ZEE के शेयर 277 रुपए की कीमत पर बेचने की तैयारी है.

ZEE  के प्रमोटर्स ने स्टॉक एक्सचेंजों को जो सूचना दी है उसके मुताबिक जो 16.5 फीसदी इक्विटी बेचने की योजना है उसमें से लगभग 2.3 फीसदी हिस्सा इन्वेस्को ओपनहाइमर डेवेलपिंग मार्केट फंड की सब्सिडियरी OFI ग्लोबल चाइना फंड को बेचा जाएगा जिसकी हिस्सेदारी पहले से मीडिया कंपनी में है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ये सभी डील्स लगभग तय हो चुकी हैं ZEE के प्रमोटर् कंपनी में 15.72 फीसदी स्टेक ब्लॉक डील के जरिए बेचेंगे जबकि बाकी शेयर ऑफ मार्केट ट्रांजैक्शन के जरिए बेचे जाएंगे. पुनीत गोयनका कंपनी के एमडी और सीईओ बने रहेंगे. कंपनी के प्रमोटर सुभाष चंद्रा को म्यूचुअल फंड्स और रूस के सरकारी सपोर्ट वाले बैंक सहित कई लेंडर्स को 7000 करोड़ से ज्यादा की रकम चुकानी है.

ये भी पढ़ें :