• Home  »  बिजनेस   »   1 अक्टूबर से टीवी खरीदना होगा महंगा, सरकार ला रही है नया नियम

1 अक्टूबर से टीवी खरीदना होगा महंगा, सरकार ला रही है नया नियम

जिसका असर टेलिविजन कंपनियों ( TV Companies ) के कॉस्टिंग पर देखा जाएगा. लिहाजा कंपनियां टीवी के दाम बढ़ा देंगी. सरकार ने यह कदम लोकल मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए उठाया है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 12:38 pm, Thu, 24 September 20

फेस्टिव सीजन शुरु होने को है और इस दौरान अगर आप टीवी  ( TV ) खरीदने का मन बना रहे है तो यह खबर आपके काम की है. 1 अक्टूबर से टीवी की कीमतों में इजाफा हो सकता है. दरअसल सरकार 1 अक्टूबर से टेलिविजन के ओपन सेल के आयात पर 5 फीसदी की कस्टम ड्यूटी लगाने जा रही है. जिसका असर टेलिविजन कंपनियों के कॉस्टिंग पर देखा जाएगा. लिहाजा कंपनियां टीवी के दाम बढ़ा देंगी. सरकार ने यह कदम लोकल मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिहाज से उठाया गया है.

इतने रुपए तक बढ़ सकती है कीमतें

टीवी के ओपेन सेल पर 5 फीसदी का कस्टम ड्यूटी लगने के बाद 32 इंच के टीवी के दाम 600 रुपए तक बढ़ सकते हैं. वहीं 42 इंच के टीवी के दाम में 1200 से 1500 रुपए की बढ़ोत्तरी संभव है. अगर बात फेमस ब्रांड की करें तो यहां 42 इंच की टीवी में 2700 रुपए से 4000 रुपए तक की बढ़ोत्तरी देखी जा सकती है. कंपनियों की दलील है कि उनकी लागत बढ़ेगी तो मजबूरन उनको दाम बढ़ाना पड़ सकता है.

पहले से ही बढ़ चुके हैं पैनल के दाम

दरअसल अधिकतर चीनी कंपनियां जो टेलिविजन का मैन्युफैक्चरिंग करती है उन्होंने पहले से ही पूरी तरह से निर्मित टीवी के पैनलों की कीमत में 50 फीसदी तक का इजाफा कर दिया है. कोरोना काल में बाकी इंडस्ट्री की तरह टीवी इंडस्ट्री पर भी बिक्री की मार पड़ी है. इंडस्ट्री के मुताबिक 5 फीसदी का कस्टम ड्यूटी बढ़ने से टीवी की कुल कीमत में 4 फीसदी का इजाफा हो सकता है.

इंपोर्ट ड्यूटी में रियायत

एक तरफ ओपेन सेल पर सरकार 5 फीसदी का कस्टम ड्यूटी लगा रही है तो वही दूसरी तरफ कोरिया समेच दूसरे देशों को भारत में निर्माण करने के लिए इंपोर्ट ड्यूटी में रियायत दे रही है. इसी वजह से कोरियाई कंपनी सैमसंग अपना कारोबार वियतनाम से समेट कर भारत में उत्पादन करने जा रही है. माना जा रहा है कि सरकार के इस कदम से लोकल लेवल पर मैन्युफैक्चरिंग ज्यादा होगी जिससे चीनी कंपनियों का दबदबा घटेगा.