पिछले 100 सालों में सबसे बड़ा आर्थिक संकट, इकोनॉमिक ग्रोथ टॉप प्रायोरिटी-RBI गवर्नर शक्तिकांत दास

आरबीआई गवर्नर (RBI Governor) ने कहा कि मौद्रिक नीति को लेकर महत्वपूर्ण फैसले किए गए जिससे इस आर्थिक संकट से बचा जा सके. फरवरी 2019 से आरबीआई ने 250 आधार अंकों (2.5 प्रतिशत अंक) की कटौती की गई है.
Worst health and Economic situation in Last 100 years, पिछले 100 सालों में सबसे बड़ा आर्थिक संकट, इकोनॉमिक ग्रोथ टॉप प्रायोरिटी-RBI गवर्नर शक्तिकांत दास

RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास 7वें SBI बैंकिंग एन्ड इकोनॉमिक कॉन्क्लेव (7th SBI Banking & Economics Conclave) को संबोधित किया. इस मौके पर शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोनावायरस (Coronavirus) संकट की वजह से पिछले 100 साल की तुलना में स्वास्थ्य और आर्थिक क्षेत्र में संकट पैदा हुआ है. इसकी वजह से नौकरियों और प्रोडक्शन के स्तर पर नकारात्मक परिणाम देखने को मिले हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

ये कार्यक्रम ऐसे वक्त में हुआ है जब कोरोनावायरस (Coronavirus) के प्रसार को रोकने लिए लगाए गए प्रतिबंधों को कम कर दिया गया है. कार्यक्रम में आरबीआई गवर्नर (RBI Governor) ने इस बात पर जोर दिया कि ये आर्थिक संकट पिछले 100 सालों में सबसे बड़ा है. हालांकि इससे निपटने के लिए नीतिगत उपायों पर काफी काम किया गया है.

आर्थिक संकट से बचने के लिए कई उपाय किए गए

आरबीआई गवर्नर (RBI Governor) ने कहा कि मौद्रिक नीति को लेकर महत्वपूर्ण फैसले किए गए जिससे इस आर्थिक संकट से बचा जा सके. फरवरी 2019 से आरबीआई ने 250 आधार अंकों (2.5 प्रतिशत अंक) की कटौती की गई है.RBI ने उभरते खतरों की पहचान करने के लिए अपने ऑफसाइट सर्विलांस मैकेनिज्म को मजबूत किया है.

बाजार को मजबूत करने के लिए लिक्विडिटी को सही बनाए रखने के लिए पारंपरिक और गैर परंपरागत दोनों तरह के उपाय किए गए हैं. आरबीआई ने फरवरी से 9.57 लाख करोड़ रुपये के लिक्विडिटी उपायों की घोषणा की है जो कि जीडीपी के 4.7 फीसदी के बराबर है.

आरबीआई के लिए आर्थिक विकास सर्वोच्च प्राथमिकता है, वित्तीय स्थिरता के पहलू को बराबर प्राथमिकता दी जानी चाहिए. एनबीएफसी और म्यूजल फंड के प्रेशर पर नजर बनाए रखने की जरूरत है

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts