पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के रिश्तेदार से मांगी थी 1.50 करोड़ की रंगदारी, 3 आरोपी गिरफ्तार

पुलिस अधीक्षक गणेश प्रसाद साहा ने सोमवार बताया कि जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के रिश्तेदार लक्ष्मी प्रसाद कुशवाहा को फोन कर डेढ़ करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई थी.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बांदा में पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के एक रिश्तेदार से डेढ़ करोड़ रुपये की रंगदारी (Extortion) मांगने के आरोप में सोमवार को तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया गया. जबकि एक अन्य आरोपी ग्राम प्रधान पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया है. जल्द ही उसकी भी गिरफ्तारी की जाएगी.

पुलिस अधीक्षक गणेश प्रसाद साहा ने सोमवार बताया कि जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के रिश्तेदार लक्ष्मी प्रसाद कुशवाहा को फोन कर डेढ़ करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई थी. इस सिलसिले में 14 नवम्बर को जिले के अतर्रा थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था.

उन्होंने बताया कि जांच के दौरान चित्रकूट जिले के बारामाफी निवासी चंद्रशेखर यादव, बल्लू उर्फ जागेश्वर यादव, कर्वी कोतवाली के पतौरा गांव के प्रधान गया प्रसाद यादव और पीड़ित के व्यावसायिक सहयोगी राजा द्विवेदी के नाम प्रकाश में आए. इनमें से तीन को आज सुबह कर्वी इलाके में गिरफ्तार कर लिया गया. इसके अलावा फरार ग्राम प्रधान पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया. जल्द ही उसकी भी गिरफ्तारी की जाएगी.

साहा के मुताबिक पकड़े गए अभियुक्तों ने पूछताछ में बताया है कि रंगदारी मांगने की योजना राजा द्विवेदी के चित्रकूट रामघाट स्थित मकान में बनी थी और चंद्रशेखर ने रंगदारी मांगी थी. चंद्रशेखर के खिलाफ विभिन्न थानों में गंभीर धाराओं के कुल 23 मुकदमे दर्ज हैं, उस पर गैंगेस्टर की भी कार्रवाई की जाएगी.